myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Photo Gallery ›   Blogs Hindi ›   significance of aasan in puja facts

पूजा में क्यों होता है आसन का इस्तेमाल, जानिए इससे जुड़ी ये ज़रूरी बातें

sonam Rathore my jyotish expert Updated Sat, 02 Oct 2021 01:48 PM IST
puja aasan significance
1 of 3

ईश्वर की अराधना के लिए पूजा में आसन का विशेष महत्व होता है. ऐसे ही किसी भी आसन पर बैठकर पूजा करना शुभ नहीं माना जाता. यहां तक कि जमीन पर ऐसे ही कोई भी आसन लगाकर पूजा करने से उसका फल भी प्राप्त नहीं होता. कहते हैं पवित्र आसन पर बैठकर पूजा करने से ईश्वर जल्दी प्रसन्न होते हैं और उनकी शीघ्र कृपा मिलती है. हिंदू धर्म में सभी देवी- देवताओं को विभिन्न फल, फूल और प्रसाद अर्पित किया जाता है. इसी तरह पूजा में आसन के इस्तेमाल करने का विशेष महत्व है और इससे जुड़े कुछ नियम हैं जिसकी जानकारी हर किसी को नहीं होती है.
  • कभी भी पूजा करते समय किसी दूसरे व्यक्ति के आसन का प्रयोग नहीं करना चाहिए.
  • आसन के इस्तेमाल के बाद इधर- उधर न छोड़ें. इससे आसन का निरादर होता है.
  • पूजा के आसन को हमेशा साफ हाथों से उठाकर सही तरीके से तय लगाकर रखना चाहिए.
  • पूजा करने के बाद सीधा आसन से न उठें. पहले आचमन से जल लेकर भूमि पर अर्पित करें और धरती को प्रणाम करें.
  • पूजा के आसन का प्रयोग किसी अन्य कार्य में न करें.
  • पूजा के पश्चात अपने ईष्ट देव को प्राणाम करते हुए पूजा के आसन को उसकी सही जगह पर रख दें

हिंदू धर्म में पूजा पाठ को लेकर कई नियम बिताए गए हैं. हर देवी- देवता की पूजा के लिए अलग मंत्र जाप, फल, फूल और प्रसाद अर्पित किया जाता है. इन सभी चीजों को अपना एक अलग महत्व होता है. शास्त्रों में  इन सभी चीजों का विशेष महत्व बताया गया है. कई लोग जमीन पर बैठकर पूजा कर लेते हैं लेकिन धार्मिक दृष्टि से ऐसा करना सही नहीं माना जाता है. हम सभी को पूजा पाठ आसान पर बैठ कर करना चाहिए. इसके कुछ खास नियम हैं जिसकी हर किसी को जानकारी नहीं होती है.

पूजा करते समय कंबल या ऊनी आसन बिछाकर पूजा करना सबसे उत्तम माना जाता है. इतना ही शास्त्रों में अलग- अलग रंगों के आसन का विशेष महत्व होता है. लाल रंग के आसन पर हनुमान जी और माता दुर्गा की पूजा करने के लिए सबसे श्रेष्ठ माना जाता है. वहीं मंत्र सिद्धी के लिए कुश का बना आसन सबसे अच्छा होता है. लेकिन श्राद्ध करते समय कुश का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.


इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 20 सितम्बर - 6 अक्टूबर 2021

फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X