myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Yogini Ekadashi 2024- Yogini Ekadashi Vrat

Yogini Ekadashi Vrat 2024: हरिश्यन से पहले क्यों मनाई जाती है योगिनी एकादशी? जानें इस दिन के उपाय

Acharya RajRani Updated 02 Jul 2024 09:43 AM IST
योगिनी एकादशी उपाय
योगिनी एकादशी उपाय - फोटो : myjyotish

खास बातें

Yogini  Ekadashi 2024 Upay: शास्त्रीय मान्यताओं के अनुसार इस एकादशी के दिन दान पुण्य करने तथा एकादशी उपाय द्वारा योग साधना पूर्ण होती हैं। भक्तों को अपनी भक्ति का संपूर्ण फल प्राप्त होता है। आइये जान लेते हैं योगिनी एकादशी मंत्र एवं योगिनी एकादशी उपाय। 
 
विज्ञापन
विज्ञापन
 
Yogini  Ekadashi 2024 Upay: शास्त्रीय मान्यताओं के अनुसार इस एकादशी के दिन दान पुण्य करने तथा एकादशी उपाय द्वारा योग साधना पूर्ण होती हैं। भक्तों को अपनी भक्ति का संपूर्ण फल प्राप्त होता है। आइये जान लेते हैं योगिनी एकादशी मंत्र एवं योगिनी एकादशी उपाय। 

Yogini  ekadashi benefits आषाढ़ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी के रुप में पूजा जाता है। यह वह एकादशी है जब भगवान श्री हरि अपनी योग साधना की तैयारी करते हैं और फिर हरि शयन का समय आता है। शास्त्रों में इस एकादशी का महत्व बहुत विशेष रहा है। 
 

हरिश्यन से पहले भगवान की योग साधना का आरंभ 

इस एकादशी को बहुत खास माना गया है क्योंकि इसी का आरंभ भगवान की योग साधना की प्रक्रिया से होता है। योगिनी एकादशी की मान्यताओं के अनुसार इस व्रत को रखने से भगवान श्री विष्णु की कृपा प्राप्त होती है। साधक को जीवन में सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं योगिनी एकादशी उपाय और इस दिन पूजा का महत्व 


योगिनी एकादशी मोक्ष का मार्ग 

योगिनी एकादशी तिथि वैष्णव भक्तों के लिए भगवान विष्णु की पूजा को समर्पित होती है। इस दिन व्रत और पूजा-पाठ से भक्त को भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है। आषाढ़ मास की पहली एकादशी यानी योगिनी एकादशी का विशेष महत्व होता है। योगिनी एकादशी का व्रत करने से कष्ट दूर होते हैं। योगिनी एकादशी पूजा करने से लक्ष्मी प्राप्ति की संभावना रहती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार योगिनी एकादशी का व्रत रखने से भक्त को विष्णु जी के साथ-साथ मोक्ष का सुख भी प्राप्त होता है। जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है। साथ ही योगिनी एकादशी का व्रत रखने से कष्टों का भी नाश होता है।
 

योगिनी एकादशी उपाय Yogini Ekadashi Remedies

योगिनी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर भगवान विष्णु का ध्यान करना चाहिए।
योगिनी एकादशी व्रत का संकल्प करते हुए व्रत आरंभ करना चाहिए।
योगिनी एकादशी के दिन ध्यान करने के साथ ही पूजा स्थल पर भगवान विष्णु की छोटी मूर्ति या तस्वीर स्थापित करनी चाहिए।
योगिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु को चंदन, तिल, फल, दीप और धूप अर्पित करना चाहिए। 
योगिनी एकादशी के दिन श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना चाहिए। 
योगिनी एकादशी के दिन तिल का दान करना भी शुभ माना जाता है। 
योगिनी एकादशी के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए। 
 

योगिनी एकादशी व्रत का महत्व Importance of Yogini  Ekadashi fast

योगिनी एकादशी तिथि पूर्ण रूप से भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन साधक को व्रत और पूजा करके भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है। आषाढ़ मास की पहली एकादशी यानी योगिनी एकादशी का विशेष महत्व होता है। योगिनी एकादशी व्रत करने से कष्ट दूर होते हैं। इसे करने से क्या लाभ प्राप्त हो सकते हैं। 

योगिनी एकादशी शुभ मुहूर्त समय पूजा द्वारा लक्ष्मी प्राप्ति का योग होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार योगिनी एकादशी का व्रत करने से भक्त को विष्णु जी के साथ देवी लक्ष्मी जी का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है।  परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है। इसके साथ ही योगिनी एकादशी का व्रत रखने से पापों का भी नाश होता है।

यदि आप इससे संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमारे ज्योतिषाचार्यों से संपर्क करें।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X