Worshiping Narayana Gives Children Happiness - नारायण की आराधना से होती है संतान सुख की प्राप्ति - Myjyotish News Live
myjyotish
हेल्पलाइन नंबर

9818015458

  • login

    Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Worshiping Narayana gives children happiness

नारायण की आराधना से होती है संतान सुख की प्राप्ति

MyJyotish Expert Updated 01 May 2020 05:53 PM IST
Worshiping Narayana gives children happiness
नारायण वैदिक काल से ही सर्वोच्च संसार की शक्ति के रूप में माने गए हैं। विष्णु पुराण के अनुसार माना जाए तो भगवान विष्णु निराकार परंब्रह्म है जिनको वेदों में ईश्वर कहा गया है। भागवत पुराण में देव के रूप में भगवान विष्णु को सर्वाधिक मान्यता प्रदान की गई है। तथा समस्त पुराणों में भागवत पुराण को सबसे अहम माना गया है इसलिए विष्णु जी का स्थान त्रिदेवों के अन्य देवों से थोड़ा अधिक माना जाता है। ऋग्वेद जैसे अन्य महत्वपूर्ण वेदों में भगवान विष्णु को सूक्त पाठ समर्पित किए गए हैं। धन की देवी लक्ष्मी जी इनकी पत्नी हैं तथा कामदेव इनके पुत्र।

भगवान विष्णु ने धर्म की रक्षा के लिए धरती पर अपने विभिन्न स्वरूपों में जन्म लिया है। जब-जब मानव संसार में अधर्म की वृद्धि हुई है तब-तब भगवान स्वयं आकर सभी को धर्म का पाठ पढ़ाकर गए हैं। इनकी कृपा से व्यक्ति का मार्ग सफलता की ओर बढ़ता है। उसके द्वारा किए गए कार्य कभी विफल नहीं होते। नारायण का आशीर्वाद सदैव उस व्यक्ति के साथ रहता है। जो कोई भी सच्चे मन से इनकी पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है तथा उसके कोई कार्य कभी विफल नहीं होते हैं।

छिन्नमस्तिका जयंती पर बिष्णुपुर के छिन्नमस्ता मंदिर में कराएं अनुष्ठान और पाएं कर्ज से मुक्ति : 7-मई-2020

प्राचीन काल की एक कथा के अनुसार एक राजा के पास किसी प्रकार की सुख - संपत्ति का कोई आभाव नहीं था। वह सकुशल अपना जीवन सुविधाओं के साथ व्यतीत कर रहा था। उसके जीवन में केवल एक कमी थी की उसकी कोई संतान नहीं थी। अनेकों पूजा-पाठ करने के बाद भी उसके मन की इच्छा पूर्ण नहीं हो पा रही थी। तब एक योग्य ऋषि के कहने पर उस राजा ने गुरूवार के दिन नारायण की पूजा का आरंभ किया। राजा की श्रद्धा देख नारायण बहुत प्रसन्न हुए तथा उसका  महल जल्दी ही एक नन्हें बालक की किलकारी से गूंज उठा। तभी से राजा नियमित रूप से नारायण की आरधना करने लगा।

नारायण की आराधना के लिए गुरूवार के दिन प्रातःकाल उठकर स्नान आदि संपन्न करना चाहिए। इस दिन पीले वस्त्रों को धारण करना चाहिए। नारायण को गुड़ और चने का भोग लगाकर स्वयं उपवास का संकल्प करना चाहिए। इस दिन यदि अन्न ग्रहण करें तो ध्यान रखना चाहिए की व्यक्ति केवल पीला भोजन ग्रहण करे। केले के पेड़ में जल अर्पण करना चाहिए।

यह भी पढ़े :-

जानिए देवी बगलामुखी कैसे करती हैं नकारात्मक शक्तियों का सर्वनाश

जानिए माँ बगलामुखी कैसे कहलाईं सर्वशक्तिशाली व राजयोग की देवी

जानिए भगवती भवानी कैसे करेंगी अपने भक्तों का उद्धार

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X