myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Which planets cause marital problems?

किन ग्रहों से होती है वैवाहिक समस्या ?

पंडित भरतलाल शास्त्री Updated 16 Jun 2020 06:38 PM IST
किन ग्रहों से होती है वैवाहिक समस्या ?
किन ग्रहों से होती है वैवाहिक समस्या ? - फोटो : Myjyotish
वैवाहिक समस्याओं के लिए मुख्य रूप से विभिन्न ग्रह ही उत्तरदायी हैं। अतः इन ग्रहों के शान्ति हेतु विविध मंत्रों का प्रयोग किया जा सकता है- * सूर्य
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः'
पौराणिक मन्त्र-'जपाकुसुमसङ्काशं काश्यपेयं महाद्युतिम्।
तमोऽरिं सर्वपापध्नं प्रणतोऽस्मि दिवाकरम्।।'
जप संख्या- 7000
रत्न- माणिक्य
* चंद्र
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'दधिशघ्खतुषाराभं क्षीरोदार्णवसम्भवम्।
नमामि शशिनं सोमं शम्भोर्मुकुट भूषणम्।।'
जप संख्या- 11000
रत्न- मोती
* मंगल
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम्।
कुमारं शक्तिहस्तं च मंगलं प्रणमाम्यहम्।।'
जप संख्या- 10,000
रत्न- मूंगा
 
जाने अपनी समस्याओं से जुड़ें समाधान भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों के माध्यम से

* बुध
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'प्रियङ्गुकलिकाश्यामं रूपेणाप्रतिमं बुधम्।
सौम्यं सौम्यगुणोपेतं तं बुधं प्रणमाम्यहम्।।'
जप संख्या- 9,000
रत्न- पन्ना
* गुरू
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरूवे नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'देवानां च ट्टषीणां च गुरूं कांचनसन्निभम्।
बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम्।।'
जप संख्या- 19,000
रत्न- पुखराज
* शुक्र
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'हिमकुन्द मृणालाभं दैत्यानां परमं गुरूम्।
सर्वशास्त्रप्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यहम्।।'
जप संख्या- 16,000
रत्न- हीरा
 
माय ज्योतिष के अनुभवी ज्योतिषाचार्यों द्वारा पाएं जीवन से जुड़ी विभिन्न परेशानियों का सटीक निवारण

 
* शनि
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'ऊँ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्।
छाया मार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्।।'
जप संख्या- 23,000
रत्न- नीलम
* राहु
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'ऊँ अर्धकायं महावीर्यं चन्द्रादित्यविमर्दनम्।
सिंहिकागर्भसम्भूतं तं राहुं प्रणमाम्यहम्।।'
जप संख्या- 18,000
रत्न- गोमेद
* केतु
तान्त्रिक मन्त्र- 'ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः केतवे नमः'
पौराणिक मन्त्र- 'ऊँ पलाशपुष्पसंकाशं तारकाग्रहमस्तकम्।
रौद्रं रौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यहम्।।'
जप संख्या-17,000
रत्न- लहसुनिया
 
यह भी पढ़े :-
सूर्य ग्रहण 2020 : सूर्य ग्रहण में सूतक का समय एवं राशियों पर प्रभाव

सूर्य ग्रहण 2020 : जाने सूर्य ग्रहण में क्या करें और क्या न करें

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य का महत्व

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X