What Is Maarkesh? And Why Is It Important In Birth Chart? - क्या होता है मारकेश ? और जन्म कुंडली में क्यों है इसका अहम स्थान ? - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   What is Maarkesh? And why is it important in birth chart?

क्या होता है मारकेश ? और जन्म कुंडली में क्यों है इसका अहम स्थान ?

आचार्य गिरीश राजौरिया Updated 14 Jun 2020 12:44 PM IST
जन्म कुंडली में क्या है मारकेश का स्थान ?
जन्म कुंडली में क्या है मारकेश का स्थान ? - फोटो : Myjyotish
जातक की जन्म कुंडली में अष्टम भाव आयु का विचार किया जाता है उस  अष्टम स्थान से अष्टम अर्थ (भाव से भावात) अर्थ लग्न से तृतीय आयु स्थान होता है इन स्थानों का व्यय स्थान ( यानि कि दूसरा ओर सप्तम भाव ) मारक भाव कहते है यहाँ एक बात समझने की जरूरत है ।
लग्न स्थान आपका शरीर है आपका जीवन है लग्न से द्वादश भाव भी मारक होता है हम सदैव इन दो भाव द्वितीय भाव एवं सप्तम भाव को मारक भाव मानते जबकि लग्न से द्वादश भाव भी मारक भाव मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।
इन मारक भावों का विचार  लग्न कुंडली ( शरीर का विचार ) चन्द्र कुंडली (मन का विचार ) सूर्य कुंडली ( आत्मबल का विचार ) इन तीनो लग्नो से विचार करना चाहिए ।

जाने अपनी समस्याओं से जुड़ें समाधान भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों के माध्यम से

सामान्यतः हम लोग समझते हैं कि मारकेश से मृत्यु होना ही नहीं माना जाता है मृत्यु के अनेक कारण होते हैं ज्योतिष में मृत्यु शरीर के मरने से नहीं होती अपितु जातक को मृत्यु तुल्य कष्ट होना भी मृत्यु के समान ही माना गया है किसी भी कारण से भय होना ,शत्रु से पीड़ित होना, पारिवारिक जीवन में क्लेश होना अथवा पारिवारिक परेशनी बढ़ना , अपमानित होना, एवं आपके व्यक्तित्व पर ठेस पहुंचाना ,मानसिक तनाव होना धन हानि या व्यापार एवं आपके कार्य क्षेत्र में हानि होना ,सदैव रोग से पीड़ित बने रहना अथवा स्वयं का लज्जित होना ये सभी प्रकार की स्थति मृत्यु तुल्य कष्ट के समान मानी जाती है मारक दशा होने पर।
लग्न भाव , तृतीय भाव, अष्टम भाव ये तीनों भाव आयु के माने गए हैं और इनसे व्यय स्थान मारक भाव माने जाते हैं और व्यय भाव के स्वामी मारकेश होते है ।
लग्न  - लग्न आपका शरीर ,स्वास्थ्य, व्यक्त्वि आदि को दर्शाता है  इनमें किसी भी प्रकार से कमी या हानि होना मृत्यु तुल्य ही है ।
तृतीय भाव -तृतीय भाव आपकी आयु साहस बल पराक्रम साझेदारी का बल भाई बहन आदि को दर्शाता है भाई , बहिन व साझेदारी से मनमुटाव,पीड़ा, विछोह होना इत्यादि मृत्यु तुल्य ही कष्ट माना जाता है ।
अष्टम भाव - आयु ,कष्ट जैल ,यात्रा अपमान आदि को दर्शाता इसके कारण भी मृत्यु तुल्य माना जाता है ।
अब मारक भाव पर विचार करते हैं ।
1. यदि लग्न और चंद्रमा पाप ग्रह से पीड़ित होना बल हीन हो अस्त हो लग्न या चन्द्रमा 6,8,12 वे भाव मे हो और उस समय मारकेश की दशा हो तो  जातक को कष्ट और मृत्यु तुल्य परेशानी आती है।
2. गुरु, शुक्र यदि दूसरे और सप्तम भाव के स्वामी हो तो प्रबल मारकेश होते हैं और उससे कम बुध और चंद्रमा होते हैं बुध शुक्र ,गुरु, चंद्र जब मारक कारक शनि  से संबंध होने से मारक में प्रबलता आती है ।
3. सूर्य के सहित चंद्र चतुर्थ भाव में बुध पंचम भाव में षष्ठम में शुक्र और द्वितीय भाव में मंगल सप्तम में शनि सूर्य के साथ हो तो मारकेश न रहने पर भी अन्य ग्रहों की दशा मारक हो जाती है ।

माय ज्योतिष के अनुभवी ज्योतिषाचार्यों द्वारा पाएं जीवन से जुड़ी विभिन्न परेशानियों का सटीक निवारण

जैसे शनि , मंगल ,बुध की महादशा में जन्म लेने वालों के लिए मंगल ,गुरु,राहु की दशा मारक तुल्य दशा होगी ।
किस बात का अवश्य ध्यान रखना कि लग्न का स्वामी  मारकेश का मित्र है या शत्रु है यदि मित्र है तो अधिक परेशनी नही लेकर आएगा ।
सूर्य और चन्द्र का अष्टमेश मित्र है अथवा लग्न मित्र है तभी मारकेश अधिक परेशनी नही लेकर आएगा ।
यह भी पढ़े :-
विवाह में क्यों होता है विलम्भ ?

ज्योतिष में वैवाहिक जीवन और उपाय

वास्तु और पेंट के रंग से होने वाले प्रभाव

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X