myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Tulsi Vivah shubh muhurat 2020 dev uthani ekadashi kab hai

तुलसी विवाह और देवठान एकादशी का संबंध एकादशी के दिन क्या करें और क्या ना करें

Myjyotish Expert Updated 24 Nov 2020 06:24 PM IST
देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह
देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह - फोटो : Myjyotish
हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत बेहद महत्वपूर्ण होता है। पूरे वर्ष में चौबीस एकादशी होती हैं। लेकिन अगर किसी वर्ष मलमास है तो इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। इन्हीं में से एक एकादशी होती है देवउठनी। हिन्दू धर्म में देवउठानी एकादशी  का बहुत महत्व होता है और इस दिन सभी प्रकार के मंगल कार्य किए जाते है और नए काम का आगमन किया जाता है |   हिन्दू मान्यताओं के अनुसार देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह करने की परंपरा है | इस बार देवउठनी एकादशी 25 नवंबर , बुधवार के दिन पड़ रही है| देवउठनी एकादशी को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर मनाया जाता है | देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा बहुत ही शुभ और फलदायी माना जाता है |  भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी तुलसी पूजन से जल्दी खुश होते है और अपनी कृपया अपने भक्तों पर बरसाते है |

यदि आप भी चाहतें सुखद वैवाहिक जीवन तो वृन्दावन में जरूर बुक कराएं तुलसी पूजन !

इसे देवउठनी एकादशी, देवोत्थान या देव प्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन जगह-जगह तुलसी का विवाह किया जाता है। तुलसी विवाह का आयोजन ठीक वैसे ही होता है, जैसे वर-वधु का विवाह हिंदू रीति-रिवाज से किया जाता है। इस दिन तुलसी के पौधे का श्रृंगार दुल्हन की तरह किया जाता है और मंगल गीत गाए जाते हैं। तुलसी विवाह के माध्यम से यह दिन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और इनका विवाह में कन्या दान करने से अनंत फल की प्राप्ति होती है।

तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त


एकादशी तिथि: 25 नवंबर, दिन बुधवार
एकादशी तिथि आरंभ: 24 नवंबर की मध्यरात्रि 02 बजकर 43 मिनट
एकादशी तिथि का समापन: 26 नवंबर की सुबह 05 बजकर 11 मिनट पर समापन
द्वादशी तिथि: 26 नवंबर, सुबह 05 बजकर 11 मिनट से द्वादशी तिथि आरंभ
द्वादशी तिथि का समापन: 27 नवंबर, सुबह 07 बजकर 47 मिनट तक द्वादशी तक का समाप
पारण का समय: 26 नवंबर सुबह 10 बजे तक 

यह भी पढ़े :-       

पूजन में क्यों बनाया जाता है स्वास्तिष्क ? जानें चमत्कारी कारण

यदि कुंडली में हो चंद्रमा कमजोर, तो कैसे होते है परिणाम ?

संतान प्राप्ति हेतु जरूर करें यह प्रभावी उपाय
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X