myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   temple of kolkata west bengal devotees offer chowmein-and momos to kali maa

पश्चिम बंगाल के काली मां के इस मंदिर में भक्तों को बाटां जाता है चाउमिन और मोमस का प्रसाद

myjyotish expert Updated 17 Jun 2021 01:09 PM IST
पश्चिम बंगाल के काली मां के इस मंदिर में भक्तों को बाटां जाता है चाउमिन और मोमस का प्रसाद
पश्चिम बंगाल के काली मां के इस मंदिर में भक्तों को बाटां जाता है चाउमिन और मोमस का प्रसाद - फोटो : google
भारत में देवी-देवताओं के कई अलोकिक और चमत्कारी मंदिर है। जितने यहां मंदिर है उतनी है भक्तों के दिल में मंदिरों के लिए श्रृद्धा है। दूर- दूर यहां लोग मंदिरों की सुंदरता को देखने के लिए आते है।
अगर पश्चिम बंगाल की बात की जाए तो यहां काली माता की भक्ति पूरे देश में प्रसिद्ध है। यहां मां काली के विभिन्न स्वरूपों की पूजा होती है। मां काली के मंदिरों में कई प्रकार से पूजा करने का विधान है। लेकिन इसी बीच पश्चिम बंगाल में चीनी काली मां का मंदिर है जहां चीनी भक्त मां काली की पूजा करते है। यह मंदिर कोलकता से करीब 12 किमी. दूर टांगा शहर में स्थित है। यह स्थान चाइना टाउन के नाम से काफी प्रसिद्ध है। वैसे इस जगह का ओरिजनल नाम टांगरा है। यहां ज्यादातर हक्का चाइनीज फैमिली रहती हैं। यह चाइनीज टेनरीज का काम करते हैं। इस कसबे में 350 टेनरीज हैं, जो चाइनीज लोगों द्वारा ही चलाई जाती हैं।
 
60 साल पूराना है यह मंदिर:

ऐसा कहा जाता है कि करीब 60 साल पहले यहां काली मां का कोई मंदिर नहीं था। ऐसा माना जाता है कि किसी भक्त ने दो काले पत्थरों पर सिंदूर लगाकर पेड़ के नीचे रखकर उसकी पूजा की थी। लेकिन 12 साल पहले इस जगह पर मंदिर का निर्माण कर वहां मां काली की दो प्रतिमाओं को स्थापित किया गया सबसे दिलचस्प बात यह है कि बंगालियों के साथ-साथ चीनी लोग भी यहां रोजाना प्रार्थना करने आते हैं।

अधिक जानने के लिए हमारे ज्योतिषियों से संपर्क करें

मंदिर का आखिर क्या है रहस्य:

इस मंदिर के बारे में बताया जाता है कि एक चीनी दंपति के 10 साल के बेटे की तबीयत बहुत ज्यादा खराब हो गई थी। काफी कोशिश करने के बाद भी स्वास्थ ठीक नहीं हो रहा था। किसी को भी उसकी बीमारी का कारण समझ नहीं आ रहा था। उसके बाद लडके का परिवार पेड़ के नीचे स्थित माता की पूजा करने लगे। लगातार पूजा करने के बाद लड़के की स्वास्थ में सुधार आ गया। जिसके बाद चीनी लोगों को देवी शक्तियों पर विश्वास हो गया। कुछ समय बाद वहां चीनी लोगों ने मंदिर का निर्माण करवाया। जिसे चाइनिज काली मां के मंदिर से जाना गया।
 
 
भक्तों को मिलता है चाइनिज प्रसाद
जहां भारत में हर तरफ लड्डू और माखन-मिश्री का भोग लगता है वहीं इस मंदिर में चाइनिज खाने यानि चाउमिन और मोमस का भोग लगाते है। भले ही मंदिर में चाइनिज भोग लगता हो लेकिन इस मंदिर में हिंदू रीति-रिवाजों का पालन किया जाता है। मंदिर में सभी भक्त बाहर जूता-चप्पल उतार कर जाते है। सुबह-सुबह यहां बड़ी धूम-धाम से आरती की जाती है। रोजाना यहां मां काली को फूल, मिठाई और प्रसाद अर्पित किया जाता है।

ये भी पढ़े:
जानें मासिक दुर्गाष्टमी कब और शुभ मुहूर्त का समय
ये उपाय करें, होंगी रुपए-पैसे से जुड़ी परेशानियाँ दूर
श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X