myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Sunday surya dev Puja mantra aarti chalisa aarti katha in hindi

Surya Narayan Puja: जानें सूर्य देव का कैसे करें पूजन, और क्या है इसके लाभ

Myjyotish Expert Updated 19 Sep 2020 01:53 PM IST
सूर्य देव पूजन
सूर्य देव पूजन - फोटो : Myjyotish
सूर्योपनिषद की माने तो सारे जगत का पालन सूर्य ही करते हैं। इसी कारण सूर्य का मनुष्य जीवन में बहुत महत्व हैं। वैदिक काल से ही सूर्योपासना की जा रही हैं। जीवन में सुख, धन और बैरियों से सुरक्षा के लिए सूर्यनारायण की पूजा होती आ रही है। बहुत समय पहले एक बुढ़िया थी वो बहुत गरीब थी पर सूर्यदेव की भक्त थी।  वह प्रातः काल उठकर रोज़ सूर्यदेव की पूजा करती थी। पूजा से पहले वह अपना घर गाय के गोबर से लिपति थी , उसके पास गाय नहीं थी।  वह अपनी पड़ोसन के घर से गाय का गोबर लेकर अपना घर लिपति थी। सूर्य देव बुढ़िया से प्रसन्न हो गए और उसे धनवान होने का आशीर्वाद प्रदान किया। यह देखकर पड़ोसन जलने लगी , उसने अपनी गाय आंगन के बजाय अंदर घर में बांधना शुरू कर दिया, जिससे बुढ़िया गोबर लेने में सक्षम नहीं हो पाती थी ।

पर्सनलाइज्ड रिपोर्ट से जानें राहु केतु राशि परिवर्तन किस प्रकार करेगा आपको प्रभावित

गोबर न मिलने के कारण बुढ़िया का मन बहुत उदास था। उस दिन वह बिना भोजन किए सो गयी साथ ही पूजन भी नहीं किया। तब उस रात उसके सपने में सूर्य देव ने दर्शन दिए और आज पूजा न करने का कारण पूछा।  तब बुढ़िया ने उन्हें अपनी व्यथा बताई जिसे सुनकर भगवान सूर्य ने उन्हें एक गाय और एक बछड़ा भेट किया । वह सुबह उठी तो गाय और बछडा उसके आंगन में बंधे हुए थे। अब पड़ोसन और जलने लगी , उसने एक दिन सुबह देखा कि वह गाय सोने का गोबर करती हैं।

पड़ोसन रोज़ बुढ़िया के उठने से पहले वह गोबर उठा कर अपने घर ले जाती । यह देख सूर्यदेव क्रोधित हो गए और एक दिन शाम को उन्होंने आंधी चला दी जिससे बुढ़िया ने गाय घर के अन्दर बाँध ली । इससे निराश पड़ोसन ने इसकी शिकायत राजा से की । राजा बुढ़िया की गाय महल में ले आया और उस गाय ने गोबर से सारे महल में बदबू कर दी ।

कामाख्या नवग्रह मंदिर में कराएं सामूहिक पूजन, राहु केतु गोचर के अशुभ प्रभाव होंगे दूर : 23-सितम्बर-2020

राजा को सूर्यदेव ने दर्शन दिए और कहा मूर्ख यह गाय सिर्फ बुढ़िया के लिए हैं । राजा ने भयभीत होकर गाय बुढ़िया को वापस कर दी और उससे माफ़ी मांगी साथ ही पड़ोसन को दंड भी दिया। तभी से सभी लोग पूर्ण विधि - विधान से रविवार के दिन सूर्यनारायण भगवान की पूजा करते है। साथ ही सूर्य देव को जल भी अर्पण करतें है। इससे उनकी  परेशानियां दूर हो जाती है। 

इस कथा के माध्यम से हम सभी को यह सिखना चाहिए की किसी भी चीज़ का लालच केवल व्यक्ति को नुकसान ही पहुँचता है। निस्वार्थ भाव से की गई पूजा - अर्चना से भगवान सदैव प्रसन्न होते है। साथ ही अपने भक्तों की समस्त मुसीबतों से रक्षा करते है। 

यह भी पढ़े :-   

Rahu Ketu Transit 2020: राहु - केतु राशि परिवर्तन, जानें इसके शुभ - अशुभ प्रभाव

राहु एवं केतु किस प्रकार आपकी कुंडली को प्रभावित कर सकतें है ? 

यदि आप है कोर्ट केस और मुकदमों से परेशान, तो जरूर करें यह उपाय !

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X