myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   significance of Gangotri Dham

गंगोत्री धाम में क्यों और कैसे अवतरित हुई थी माँ गंगा, जानें महत्वता

Myjyotish Expert Updated 08 Oct 2020 07:01 PM IST
Astrology
Astrology - फोटो : Myjyotish

माँ गंगा की उद्गम स्थली गंगोत्री  उत्तराखंड के उत्तरकाशी में स्थित है। हर साल मई से अक्टूबर महीने के बीच पतित पावनी गंगा मैया के दर्शन करने के लिए लाखों श्रद्धालु यहाँ आते हैं। गंगा मैया को शुद्धता का प्रतीक माना जाता है। माना जाता यह सभी के पापों को धोती हैं। गंगोत्री धाम की पौराणिक कथा बहुत कम लोगों को पता है , आइए जानते है इस पवित्र धाम की पौराणिक कथा ।

गंगा मैया का धरती पर कैसे आयी इसके बारे में यह कहा जाता है की , राजा सागर बहुत ही धार्मिक प्रवृति के राजा थे। धर्म-कर्म के कार्यों से उनकी प्रतिष्ठा दिन दुगनी रात चौगुनी बढ़ रही थी। उनके इस धर्म-कर्म से देवराज इंद्र को लगने लगा कि कहीं उनका सिंहासन न छीन जाए। उन्होंने छल कपट की नीति को अपनाया और राजा सागर के अश्वमेघ के अश्व को चुरा कर कपिलमुनि के आश्रम में बांध दिया। अश्व न मिलने पर राजा सागर ने अपने 60000 पुत्रों को उस अश्व को ढूंढ कर लाने का आदेश दिया।

 अधिक मास में वृन्दावन के बांके बिहारी जी मंदिर में कराएं श्री कृष्ण की अत्यंत फलदायी सामूहिक पूजा : 13-अक्टूबर-2020

कपिलमुनि के आश्रम में अश्व बंधा देखकर उन्होंनें कपिलमुनि की तपस्या को भंग कर दिया और उन पर चोरी का आरोप लगा दिया जिससे कपिलमुनि क्रोधत हो उठें। उन्होने अपनी क्रोधाग्नि से राजा सागर के 60 हजार पुत्र भस्म कर दिया। इसके पश्चात राजा सागर के पौत्र अंशुमन फिर अंशुमन के पुत्र दिलीप ने ब्रह्मा की तपस्या कर गंगा को धरती पर लाने का प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली। दिलीप के पुत्र भागीरथी हुए जो काफी कठिनाइयों के बाद गंगा को धरती पर लाने में कामयाब हुए।

भगवान शिव की जटाओं से निकलकर पृथ्वी पर जहाँ गंगा का अवतरण हुआ वह स्थान आज गंगोत्री  कहलाता है। जिसे हम गंगा का उद्गम स्थल कहते हैं।
गंगोत्री धाम का सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थान गंगोत्री मंदिर ही है। इसके अलावा यहां गौमुख, मुखबा गांव, भैरो घाटी और नंदनवन तपोवन भी दर्शनीय स्थान है।कहा जाता है यहाँ पर आदी शंकराचार्य ने गंगा देवी की एक मूर्ति को स्थापित किया था, जिससे आगे चलकर गंगोत्री मंदिर का निर्माण हुआ ।

यह भी पढ़े :-  

 Adhik Maas 2020: अधिक मास क्यों है महत्वपूर्ण जानें पौराणिक कथा

Adhik Maas 2020: इस वर्ष बन रहें है ख़ास संयोग, जानें क्यों विशेष है अधिक मास

Adhik Maas 2020: अधिक मास में भूलकर भी नहीं करने चाहिए यह काम
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X