myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Shubh muhurat after 8 years janamashtami yoga

8 वर्षों बाद हुआ ऐसा संयोग, जयंती योग में होगी इस बार जन्माष्टमी

my jyotish expert Updated 28 Aug 2021 07:48 PM IST
janmashtami 2021
janmashtami 2021 - फोटो : google
पुराणों के अनुसार भगवान श्री कृष्ण का जन्म 5000 वर्ष पूर्व पहले हुआ था | परंतु उनकी मान्यता आज तक कम नहीं हुई है उनका जन्मदिन आज की पूरे उत्साह और त्यौहार की तरह मनाया जाता है| भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है | श्री कृष्ण को झूले में बैठा कर उस झुले को किसी साफ जगह पर लगा दिया जाता है और फिर वो आकर झूला झूलाकर  भगवान श्री कृष्ण का आशीर्वाद लेते है | और भगवान श्री कृष्ण को माखन बेहद पसंद है इसीलिए जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण को माखन का भोग लगाया जाता है | मंदिरों में मटकी फोड़ आयोजन भी होता है रात 12:00 बजे ठीक जिस समय भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था  उस समय मटकी फोड़ी जाती है |जन्माष्टमी के दिन लड़कियां और महिलाएं व्रत भी रखती है जन्माष्टमी के दिन निर्जला व्रत भी रखा जाता है | और जन्माष्टमी का व्रत रात में 12:00 बजे खेला तारा देखकर तो आ जाता है | ऐसा कहा जाता है कि जन्माष्टमी के दिन अभी पूरे विधि विधान से पूजा की जाए जीवन के सारे दुख समाप्त हो जाते हैं |आज के इस लेख लेख में हम आपको बताएंगे पूजा का सही मुहूर्त, पूजा करने की सही  विधि बताएंगे | यदि आप भी भगवान कृष्ण की पूजा करते हुए जन्माष्टमी का व्रत रखते हैं तो आपके लिए यह लेख लाभकारी होगा

जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी की पीताम्बरी पोशाक सेवा|
 
महापुण्यप्रदायक जयंती योग

श्रीमद्भागवत में पुराण के अनुसार, भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्र कृष्ण पक्ष की अष्टमी की तिथि बुधवार रोहिणी नक्षत्र एवं वृषभ राशि के चंद्रमा कालीन अर्धरात्रि  को हुआ था।  और कई बार वृषभ राशि में चंद्रमा तो होता हीं है परंतु राहिणी नक्षत्र में नहीं होता इसलिए तब असमंजस की स्थिति बन जाती है, परंतु इस वर्ष 2021 में ठीक 8 साल बाद ही यह दुर्लभ संयोग बन  पा रहा है जब रोहिणी नक्षत्र भी होगा और राशि भी बृष होगा । और पर बुधवार की बजाय सोमवार पड़ेगा। गौतमी तंत्र नामक ग्रन्थ  में तथा पदमपुराण के अनुसार, यदि कृष्णाष्टमी सोमवार या बुधवार को पड़तो है तो यह दिवस जयंती के नाम से जाना जाता है और अत्यंत शुभ भी माना जाता है।

जन्माष्टमी का दिन और पूजा का समय -

इस बार भगवान  श्री कृष्ण जन्मदिन 30 अगस्त को है | जो 29 अगस्त  दिन रविवार को रात को 11:25 से शुरू होकर 30 अगस्त को दिन सोमवार को देर रात 1:59 मिनट तक रहेगी |
इस बार जन्माष्टमी 29 अगस्त को रात से ही
 जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी की पीताम्बरी पोशाक सेवा शुरू हो जा रहे हैं जिसके कारण सही मुहूर्त और सही दिन को लेकर लोगों के बीच का संबंध बना हुआ है | लेकिन पंडितो का कहना है कि जन्माष्टमी 30 अगस्त 2021 की है |
लेकिन इस बार की जन्माष्टमी को लेकर पंडितो का कहना है कि वर्षो बाद एक ऐसे योग का निर्माण है | जिसकी वजह से इस बार वैष्णव और ग्रहस्थ दोनों एक हीं दिन मनाएंगे |  और  मंदिर के पंडितो का कहना है कि करीब 100 से भी अधिक सालो के बाद ऐसे दिन इस जयंती का योग का निर्माण हो रहा है |

 भगवान कृष्ण की आराधना के लिए इन मंत्रो का जाप करे -

ज्योत्स्नापते नमस्तुभ्यं नमस्ते ज्योतिशां पते!
नमस्ते रोहिणी कान्त अर्घ्य मे प्रतिगृह्यताम्!
संतान की प्राप्ति के लिए  -
मंत्र - देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते!
देहिमे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः!

दूसरा - क्लीं ग्लौं श्यामल अंगाय नमः !!

विवाह में देरी होने पर -
मंत्र -ओम् क्लीं कृष्णाय गोविंदाय गोपीजनवल्ल्भाय स्वाहा।

इन मंत्रो का उच्चारण 108 बार करने से लाभ मिलेगा | 

व्रत रखने का सही तरीका -
पहले सुबह नहाने के बाद ,व्रतानुष्ठान करके ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें। और फिर पूरे दिन व्रत रखें। फलाहार  भी कर सकते हैं। रात को ठीक बारह बजे, लगभग अभिजित मुहूर्त में भगवान भगवान कृष्ण की आरती करें।  और प्रतीक स्वरुप खीरा फोड़ कर, शंख बजाकर भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाये | और तार को देकर मक्खन, मिश्री, धनिया, केले, मिष्ठान आदि का  प्रसाद खाकर व्रत का समापन करे |


 जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी का माखन मिश्री भोग
जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण
जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी की पीताम्बरी पोशाक सेवा|
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X