myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Shri Krishna special temple sacred secrets of his heart

जानिए किस मंदिर में आज भी धड़कता हैं श्री कृष्ण का दिल

myjyotish expert Updated 30 May 2021 01:20 PM IST
जानिए किस मंदिर में आज भी धड़कता हैं श्री कृष्ण का दिल
जानिए किस मंदिर में आज भी धड़कता हैं श्री कृष्ण का दिल - फोटो : google
हिंदु धर्म के हिसाब से मोक्ष प्राप्ती के लिए चार पवित्र तीर्थ स्थलों का समूह अत्याधिक महत्व रखता हैं, जिसे चार धाम कहते हैं। इन चार धामों में से पहला हैं बदरीनाथ जहां भगवान विष्णु ने स्नान किया था, द्वारिका जहां उन्होनें कपड़े बदले थे, पुरी जहां भगवान ने भोजन किया था और अंत में हैं रामेश्वरम जहां विष्णु भगवान ने विश्राम किया था। ओडिशा के पुरी में स्थित भगवान विष्णु के कृष्ण अवतार को समर्पित जगन्नाथ मंदिर भी इन चार धामों में से एक धाम हैं। जहां भगवान जगन्नाथ की लकड़ी की प्रतिमा के अंदर आज भी श्री कृष्ण का धड़कता दिल रखा गया हैं। भगवान कृष्ण की लीलाएं तो विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। इस 800 साल पुराने मंदिर में कई एसी रहस्यमय कहानीयां हैं जिनका किसी के पास कोई जवाब नहीं हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


लकड़ी की प्रतिमाओं वाला देश का यह अनोखा मंदिर-

हिंदु देवी-देवताओं की प्रतिमाएं अक्सर पत्थर या किसी धातु से निर्मित होती हैं। मगर आश्चर्य की बात यह हैं कि विष्णु के इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बालभद्र और बहन सुभद्र की काठ की प्रतिमा हैं। लोगों की माने तो वास्तव में इस मंदिर में भगवान विष्णु की चार हाथों वाली प्रतिमा थी जिसे नीला माधव के नाम से भी जाना जाता हैं। मगर मुगल शासकों द्वारा कई बार इस मंदिर पर हमला किया गया जिस कारण वह प्रतिमा कई बार क्षतिग्रस्त हो गई थी। पुरी के महाराज ने तब फैसला लिया कि इस प्रतिमा को किसी एसी वस्तु से बदला जाए जिसे अगर बार बार बनाने की ज़रुरत पड़े तो आसानी से बन जाए। मौजूदा प्रतिमाएं नीम की लकड़ी से निर्मित हैं।

हर 12 साल में श्री कृष्ण के धड़कते दिल को नई प्रतिमा में स्थापित किया जाता हैं-

मंदिर में स्थापित तीनों मूर्तियों को हर 12 साल में नई मूर्तियों से बदला जाता हैं। इस प्रक्रिया से जुड़ी कई रहस्यमय बातें हैं। जब मूर्तियां बदली जाती हैं तो शहर भर की बिजली काट दी जाती हैं और मंदिर के आस पास पूर्णत: अंधेरा कर दिया जाता हैं। सीआरपीएफ की टीम सुरक्षा हेतु तैनात की जाती हैं और उस वक्त मंदिर में सिर्फ मूर्तियां बदलने वाले पुजारी को जाने की अनुमति होती हैं जिसकी आंखों पर भी पट्टी बांधी जाती हैं, और हाथों में दस्तानें पहनाए जाते हैं। मान्यताओं के अनुसार पुरानी प्रतिमाओं में से उस ब्रह्म पदार्थ यानि श्री कृष्ण के ह्रदय को निकालकर नई मूर्ति में लगा दिया जाता हैं। इस ब्रह्म पदार्थ के बारे में ज़्यादा जानकारी किसी को नहीं हैं। पर माना जाता हैं कि यह किसी प्रकार का जीवित पदार्थ हैं। कहा जाता हैं अगर किसी ने इसे देख लिया तो उस व्यक्ति के शरीर के चीथड़े उड़ जाएंगे।

अधिक जानने के लिए हमारे ज्योतिषियों से संपर्क करें

मंदिर में कैद हैं और भी कई रहस्य-

रसोई का रहस्य -: जगन्नाथ मंदिर की रसोई विश्व की सबसे बड़ी रसोई हैं। जब भक्तों के लिए प्रसाद बनाया जाता हैं तो लकड़ी के चूल्हे पर एक के ऊपर एक सात बर्तन रख दिए जाते हैं, मगर हैरानी की बात तो यह हैं कि सबसे पहले सातवें यानि सबसे ऊपर रखें बर्तन में प्रसाद बनता हैं और सबसे आखिर में पहले बर्तन का। इसके अतिरिक्त अगर लाखों लोग भी आ जाए तो यहां प्रसाद कभी कम नहीं पड़ता हैं। मगर जैसे ही द्वार बंद करने का समय आता हैं प्रसाद अपने आप खत्म हो जाती हैं।
झंडे का रहस्य -: दिन के किसी भी वक्त इस मंदिर के किसी भी हिस्से की परछाई ज़मीन पर नहीं पड़ती हैं। इसके अलावा मंदिर में हर रोज़ शिखर पर लगे झंडे को बदलने का नियम हैं अगर एसा नहीं हुआ तो शायद अगले 18 साल के लिए मंदिर बंद हो जाएगा। एवं यह झंडा हमेशा हवा से विपरीत दिशा में उड़ता हैं। 

ये भी पढ़े:
भक्तों को प्रसाद में रक्त से सना गिला कपड़ा मिलता हैं, देवी के इस चमत्कारी मंदिर में
क्या आप जीवन में कभी पैसा कमा पाएंगे, अपनी हस्तरेखा के ज़रिए जानिए

30 मई दैनिक राशिफल: जानिए अलग-अलग राशियों पर आधारित आज का भविष्यफल




 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X