myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   shiv shakti 10 mahaavtar significance

जानिए शिव और शक्ति के इन दस अवतारों का ये अनोखा संबंध

myjyotish expert Updated 02 Jul 2021 05:09 PM IST
जानिए शिव और शक्ति के इन दस अवतारों का ये अनोखा संबंध
जानिए शिव और शक्ति के इन दस अवतारों का ये अनोखा संबंध - फोटो : google
मां दुर्गा की दस माहविद्याओं को अत्यंत प्रभावशाली माना जाता है। कहते हैं कि ये पूर्ण ब्रह्मांड की शक्ति का स्त्रोत हैं। पुराणों के अनुसार शिव को शक्ति के बिना अधूरा माना गया है। मान्यता है कि शिव जी के रौद्र रूप इन महाविद्याओं से प्रभावित हैं। देवी की दस महाविद्या में मां काली, मां तारा, मां भुवनेश्वरी, मां बगलामुखी, मां कमला, मां छिन्नमस्ता, मां त्रिपुर सुंदरी, मां भैरवी, मां मातंगी और मां धूमावती शामिल हैं।  तो आइए जानते हैं ये 10 महाविद्या और शिव के 10 रौद्र अवतार किस प्रकार एक दूसरे से संबंधित हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT



महाकालेश्वर रुद्रावतार और महाविद्या महाकाली:

महादेव के सर्वप्रथम रुद्रावतार महाकालेश्वर का संबंध महाकाली रूप से माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस रूप में शिव अपनी शक्ति महाकाली से ही प्राप्त करते हैं। शिव और शक्ति के ये दोनों अवतार उनकी सभी अवतारों में से सबसे भयानक माने जाते हैं।


तारकेश्वर रुद्रावतार और मां तारा:

महादेव का दूसरा रुद्रावतार तारकेश्वर मां तारा से संबंधित है। पश्चिम बंगाल के द्वारिका नदी के निकट महाश्मशान में स्थित तारापीठ मां तारा का शक्तिपीठ है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है।


भुवनेश्वर रुद्रावतार और मां भुवनेश्वरी:

महादेव के शीतल स्वरूप वाले इस अवतार को भुवनेश्वर रुद्रावतार कहते हैं। इनकी शक्ति मां भुवनेश्वरी से आती है। इनका शक्तिपीठ उत्तराखंड में नारद गंगा के तट पर है। ऐसा माना जाता है कि महर्षि वेदव्यास ने वेद पुराणों की रचना की थी।


षोडेश्वर रुद्रावतार और मां त्रिपुर सुंदरी:

भगवान शिव का चौथा रुद्रावतार है षोडेश्वर और इसकी शक्ति देवी त्रिपुर सुंदरी हैं। महादेव के इस रुद्रावतार को मोक्षदायी माना जाता है। मां त्रिपुर सुंदरी का शक्तिपीठ त्रिपुरा के उदयपुर के निकट स्थित है।


भैरवनाथ रुद्रावतार और मां भैरवी:

मां भैरवी से अपनी शक्ति हासिल करने वाले शिव के इस रुद्रावतार को भैरवनाथ के नाम से जाना जाता है। भैरवनाथ को तामसिक देव भी कहते हैं। मां भैरवी के दो शक्तिपीठ हैं। इनमे से एक उज्जैन ने शिप्रा नदी के तट पर स्थित है तो दूसरा  गुजरात के गिरनार के पास।


दमोदेश्वर रुद्रावतार और मां छिन्नमस्ता:

दामोदेश्वर रुद्रावतार महादेव का छटवां रुद्रावतार है। इस अवतार की शक्ति मां छिन्नमसता हैं। झारखंड के रामगढ़ जिले में स्थित इनकी शक्तिपीठ को तांत्रिक दृष्टिकोण से काफ़ी महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इनके पुराने मंदिर के टूटने के कारण उसका नवनिर्माण हुआ था अपितु वहां आज भी पुरानी मूर्तियां मौजूद हैं।


धूमेश्वर रुद्रावतार और मां धूमावती:

धुएं के स्वरूप वाले भगवान शिव के इस अवतार को धूमेश्वर नाम से जाना जाता है। इनकी शक्ति देवी धूमावती हैं। मध्य प्रदेश के दतिया जिले में माता का शक्तिपीठ है जिसकी काफ़ी अधिक मान्यता है।


बग्लेश्वर रुद्रावतार और मां बगलामुखी:

महादेव का आंठवा रुद्रावतार बगलेश्वर और बगलामुख के नाम से प्रचलित है। इनकी शक्ति का स्त्रोत देवी बगलामुखी को माना जाता है। मां बगलामुखी के तीन शक्तिपीठ हैं जिनमें से एक हिमाचल के कांगड़ा जिले में, एक मध्य प्रदेश के दतिया जिले में और एक मध्य प्रदेश के शाजापुर जिले में स्थित है।


मतंगेश्वर रुद्रावतार और मां मातंगी:

देवी मातंगी से अपनी शक्ति प्राप्त करने वाले महादेव के इस स्वरूप को मंगतेश्वर के नाम से जाना जाता है। मां मातंगी का शक्तिपीठ मध्य प्रदेश में एक छोटे से शहर झाबुआ में स्थित है। देवी के इस स्वरूप को ब्राह्मण अपनी कुलदेवी के रूप में देखते हैं।


कमलेश्वर रुद्रावतार और मां कमला:

कमलेश्वर महादेव का दसवां रुद्रावतार है और इनके इस स्वरूप की तुलना कमल से की जाती है। महादेव के इस रूप को अपनी शक्ति मां कमला से से मिलती है।
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X