Sawan 2020 : Worship Of Baba Baidhyanath Fulfills Wishes - Sawan 2020 : बाबा बैद्यनाथ के पूजन से पूर्ण होती है मनोकामनाएं - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   sawan 2020 : worship of baba baidhyanath fulfills wishes

Sawan 2020 : बाबा बैद्यनाथ के पूजन से पूर्ण होती है मनोकामनाएं

Myjyotish Expert Updated 06 Jul 2020 06:51 PM IST
सावन 2020 : बाबा बैद्यनाथ के पूजन से पूर्ण होती है मनोकामनाएं
सावन 2020 : बाबा बैद्यनाथ के पूजन से पूर्ण होती है मनोकामनाएं - फोटो : Myjyotish

सावन 2020 : बाबा बैद्यनाथ का भव्य मंदिर झारखण्ड राज्य के देवघर स्थान में स्थित है। यह महाकाल के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से एक है। मान्यताओं के अनुसार यहाँ आने वाले सभी भक्तों की मनोकामना सदैव पूर्ण होती है। इस वर्ष सावन का महीना 6 जुलाई से प्रारम्भ हो रहा है जो की 3 अगस्त को अंत होगा। शिव भक्तों के लिए यह स्थान बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। यह एक सिद्ध पीठ है , जिसे कामना लिंग के नाम से भी जाना जाता है। कथन के अनुसार कुछ विशेष स्थानों पर भक्तों द्वारा शिव की विशेष उपासना की गई जिसके कारण ही वह लिंग स्वरुप में सदैव के लिए वहां उपस्थित हुए। बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग शिव के उन्ही 12 स्थानों में से एक है जहां शिव भक्तों की इच्छाएं अवश्य पूर्ण होती है।

सावन माह में बुक करें शिव का रुद्राभिषेक , होंगी समस्त विपदाएं दूर 

कैसे स्थापित हुआ था शिव का बैद्यनाथ धाम ?


इस लिंग की स्थापन की कथा यह है की लंकापति राक्षस राज रावण शिव शंकर का बहुत ही बड़ा भक्त था। कहा जाता है की एक बार उसने अपनी निष्ठा और श्रद्धा भाव से महादेव को कठोर तप करके प्रसन्न कर लिया था। रावण ने यह कठोर तपस्या इसलिए की थी क्यूंकि वह चाहता था की शिव का भव्य मंदिर लंका में भी बनवाया जाए। जिसके लिए ही वह शिव को प्रसन्न करने की कोशिश कर रहा था ताकि महादेव अपने लिंग स्वरुप में लंका में भी अपना स्थान प्रस्तुत करें। महादेव रावण के तप से प्रसन्न थे साथ ही उसकी प्रार्थना को भी उन्होंने स्वीकार कर लिया था। परन्तु महाकाल की एक शर्त थी और वह यह की यदि हिमालय से लेकर लंका तक रावण ने किसी भी स्थान पर उन्हें धरती पर रखा तो वह उसी स्थान पर सदैव के लिए रह जाएंगे।

समस्त इच्छाओं की पूर्ति के लिए श्रावण मास में कराएं रुद्राभिषेक - बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

रावण की भूल किस प्रकार बनी शिव भक्तों का आशीर्वाद ?

रावण बहुत बलशाली था और उसे अपनी शक्ति पर पूरा भरोसा था। महादेव की बातें सुनते ही उसने शर्त मंजूर कर ली। वह महादेव के लिंग स्वरुप को अपने कंधे पर उठाएं कुशलता से आगे बढ़ रहा था। इसी दौरान जब वह देवघर पंहुचा तो उसे लघुशंका के लिए मध्य में ही रुकना पड़ा। परन्तु उसे भगवान शिव की बात का ज्ञात था। इसलिए उसने एक बकरी चरने वाले को मध्य में रोका और जब तक वह वापस न लौटें लिंग को अपने कंधे पर उठाएं रखने का आग्रह किया। बकरी चरने वाला मान गया और रावण लिंग उसे सौंपकर वहां से चला गया। बकरी चरने वाले ने लिंग अपने कंधे पर उठाया ही था की उसकी बकरियां इधर - उधर भागने लगी। शर्त से अनजान उसने शिवलिंग को नीचे रखा और बकरियों के पीछे भागने लगा। जब रावण वापस लौटा तो उसने देखा की शिवलिंग नीचे रखा हुआ था। उसने अपनी पूरी ताकत से शिव लिंग को उठाने का प्रयास किया परन्तु असफल रहा। तभी से वह शिवलिंग बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग के नाम से जाना जाने लगा। 

यह भी पढ़े :-

Sawan 2020: सावन के महीने में भूलकर भी न पहनें इस रंग के कपड़े

Shravan 2020 - क्या है भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों से जुड़ी पौराणिक कथाएं।

जीवन में सर्वत्र सफलता , यश, कीर्ति हेतु कुछ खास उपाय

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X