myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Mundeshwari temple significance secrets behind the auspicious place

जानिए माँ के किस मंदिर में चढ़ाई जाती हैं चमत्कारी सात्विक रूप से बलि

Myjyotish expert Updated 27 May 2021 11:46 AM IST
जानिए माँ के किस मंदिर में चढ़ाई जाती हैं चमत्कारी सात्विक रूप से बलि
जानिए माँ के किस मंदिर में चढ़ाई जाती हैं चमत्कारी सात्विक रूप से बलि - फोटो : google

बिहार के कैमूर जिले के रामगढ़ गाँव की पंवरा पहाड़ी पर स्थित हैं, मुंडेश्वरी भवानी का यह प्राचीन मंदिर। यह मंदिर लगभग 600 फिट की ऊँचाई पर बनाया गया हैं। भारत में देवी के अनेकों प्राचीन एतिहासिक मंदिर हैं। इसी तरह माँ मुंडेश्वरी के मंदिर को देवी के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक माना जाता हैं। मंदिर में माँ दर्गा वैष्णवी रूप में विराजमान हैं। एवं मंदिर में वाराही देवी की प्रतिमा स्थापित हैं , जिनका वाहन महिष यानि भैसा हैं। पुरातत्व विभाग भी इस बात का प्रमाण देता हैं जिन्हे मंदिर से 389 ई0 के बीच के शिलालेख हासिल हुए हैं। मुण्डेश्वरी भवानी के मंदिर के नक्काशी और मूर्तियों उत्तरगुप्तकालीन है I यह पत्थर से बना हुआ अष्टकोणीय मंदिर है I

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


क्यों मुंडेश्वरी के नाम से प्रसिद्ध हैं यह मंदिर:
माना जाता है कि जब चंड-मुंड नाम के असुरों का वध करने के लिए देवी यहा आई थी तब चंड के विनाश के बाद मुंड युद्ध करते करते इसी पहाड़ी में छिप गया था। और अंत में इसी पहाड़ी के ऊपर देवी ने मुंड का भी वध कर दिया था। इसलिए देवी का यह मंदिर मुंडेश्वरी के नाम से प्रसिद्ध हैं। आज इस मंदिर में काले पत्थर से निर्मित, भैंस पर सवार माता की साढ़े तीन फीट की प्रतिमा को दक्षिणमुखी स्वरूप में खड़ा कर पूजा की जाती हैं।

अद्भुत पंचमुखी शिवलिंग भी हैं विराजमान :
माता के इस मंदिर के मध्य भाग में पंचमुखी शिवलिंग भी स्थापित हैं। यह कोई मामूली शिवलिंग नहीं हैं। इस शिवलिंग की खास बात यह हैं कि यह पंचमुखी शिवलिंग जिस पत्थर से निर्मित किया गया हैं उसमे सूर्य की स्थिति के साथ साथ पत्थर का रंग भी बदलता रहता है I यह शिवलिंग दिन में तीन बार रंग बदलता हैं।

इस कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 2 जून 2021

चढ़ाई जाती हैं यहां रूप से सात्विक बलि:
यह इस मंदिर की सबसे अनोखी एवं चमत्कारी बात हैं कि यहां , पशु बलि में बकरा चढ़ाया तो जाता हैं मगर उसका वध नहीं किया जाता। न केवल हिंदू बल्कि इस मंदिर में अन्य धर्मों के लोग भी बलि देने आते हैं और माता के इस चमत्कार से स्वयं साक्षी होते हैं।

बलि चढ़ाने की यह सात्विक परंपरा पुरे भारतवर्ष में कही और नहीं देखी जाती जिसमें , जब बकरे को माता की मूर्ति के सामने लाया जाता है तो पुजारी अक्षत (चावल के दाने) को मूर्ति को स्पर्श कराकर बकरे पर फेंकते हैं। बकरा उसी वक्त अचेत मृतप्राय सा , बेहोश हो जाता है। थोड़ी देर के बाद अक्षत फेंकने की इस प्रक्रिया को दोबारा से किया जाता हैं । तब वह बकरा उठ खड़ा होता है और इसके बाद ही उसे मुक्त कर दिया जाता है।

सालों से मुस्लिम परिवार हैं इस मंदिर का संरक्षक:
इस अनोखे मंदिर की यह बात भी बहुत अनोखी और विचित्र हैं कि माँ दर्गा के इस मंदिर की रक्षा मुस्लिम परिवार के हाथों हो रही हैं। यह बात भारत की अनेकता में एकता को दर्शाती हैं। और बताती हैं कि धर्म के नाम पर लोगों को अलग करना गलत हैं। चाहे कोई भी हो सच्चे मन से अगर आप माँ मुंडेश्वरी से कुछ मांगेगे तो आपकी हर मनोकामना पूरी होगी।


यह भी पढ़े :

राहु, केतु और शनि की बिगड़ी दशा के लिए लाल किताब के नुस्खे

वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा घर बनवाए

विवाह में आ रही हो कठिनाई तो करें ये अचूक उपाए








 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X