Mata Shailputri Puja On The Day One Of Navratri - नवरात्रि के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की होती है पूजा - Myjyotish News Live
myjyotish
  • login
Home ›   Blogs Hindi ›   Mata Shailputri Puja on the day one of Navratri
पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा
पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा

नवरात्रि के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की होती है पूजा

My Jyotish Expert Updated 24 Mar 2020 02:08 PM IST
नवरात्रि के नौ दिनों में माँ दुर्गा के नौ स्वरूपों कि पूजा की जाती है। नवरात्रि का पर्व माँ के प्रति विश्वास और आस्था का पर्व माना जाता है। इस पर्व के पहले दिन माँ शैलपुत्री की आराधना की जाती है। वृषभ नाम के नंदी पर सवार होती हैं देवी शैलपुत्री। इनके एक हाथ में त्रिशूल वही दूसरे हाथ में कमल का फूल होता है। भक्त इन नौ दिनों में तप जप जैसे विभिन्न अनुष्ठान करके माँ को प्रसन्न करने की कोशिश करते है।

नवरात्रि के पहले दिन घट स्थापना की जाती है, इस दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय के घर में पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम 'शैलपुत्री' पड़ा। इनकी उपासना से विशेष फल की प्राप्ति होती है।

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

वैसे तो वर्ष में चैत्र,माघ, आषाढ़ और आश्विन के माह में नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। जिसमें से चैत्र और आश्विन माह की नवरात्रि को ही प्रमुख माना जाता है। नवरात्रों के दिनों में ब्रह्म मुहर्त में उठकर साफ़ पानी से स्नान करना चाहिए। इसके बाद घर के किसी पवित्र कोने में मिटटी से वेदी बनाएं। वेदी में जौ और गेहूं दोनों को मिलकर बोया जाता है ।

वेदी के पास धरती माँ का पूजन कर वहां कलश स्थापना करें। इसके पश्चात प्रथम पूज्य श्री गणेश की आराधना कर पूजा आरम्भ करें। उसके बाद वेदी के किनारे देवी की प्रतिमा को स्थापित करें। माँ दुर्गा की कुमकुम ,चावल , पुष्प ,इत्र आदि से विधिवत पूजा करें। इसके बाद दुर्गासप्तशती का पाठकर पूजा संपन्न करे।

माँ शैलपुत्री की तस्वीर को स्थापित करें और उसके नीच चौकी पर लाल वस्त्र बिछाएं। इसके ऊपर केसर से शं लिखें और उसके साथ ही माँ से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति की प्राथना करें। तथा हाथ में लाल पुष्प लेकर माता शैलपुत्री का ध्यान करें। 
माँ के मंत्रों का उच्चारण करे ,मंत्र पूर्ण हो जाने के बाद माँ के चरणों में अपनी इच्छा व्यक्त करके श्रद्धा से आरती व कीर्तन करें। माँ को गाय का घी अर्पित करने से भक्तों पर माँ की कृपा व आरोग्य का आशीर्वाद मिलता है। तथा उनका मन व शरीर दोनों ही निरोग रहता है।

यह भी पढ़े

विंध्याचल पर्वत की विंध्यवासिनी देवी का चमत्कारी धाम

जानिए नवरात्रि के दिनों में क्यों नहीं करने चाहिए ये काम

 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X