myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Masik Kalashtami 2024: Chanting the name of Tantra Bhairav

Masik Kalashtami : कालाष्टमी के दिन तंत्रभैरव के नाम जाप से दूर हो जाएगी हर बाधा

myjyotish Updated 29 May 2024 08:21 AM IST
Masik Kalashtami : कालाष्टमी
Masik Kalashtami : कालाष्टमी - फोटो : myjyotish

खास बातें

kalashtami puja : ज्येष्ठ माह में आने वाली कालाष्टमी 30 मई को मनाई जाएगी. कालाष्टमी का पर्व हर माह आने वाली कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन किया जाता है. इस दिन काल भैरव पूजन द्वारा हर प्रकार के संकट होते हैं दूर. 
विज्ञापन
विज्ञापन
Kalashtami Vrat 2024 : कालाष्टमी भगवान भैरव की पूजा का विशेष दिन. इस दिन किया गया भैरव नाम जाप एवं तंत्र भैरव नाम जाप हर बाधा को कर देता है दूर. इस दिन काल भैरव के पूजन से भक्तों के सभी कष्ट हो जाते हैं पलभर में दूर. 

kalashtami puja : ज्येष्ठ माह में आने वाली कालाष्टमी 30 मई को मनाई जाएगी. कालाष्टमी का पर्व हर माह आने वाली कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन किया जाता है. इस दिन काल भैरव पूजन द्वारा हर प्रकार के संकट होते हैं दूर. 

मासिक कालाष्टमी पूजा समय 2024 

हर माह आने वाली कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी का व्रत रखा जाता है. इस दिन भगवान भैरव की पूजा को सात्विक राजसिक एवं तामसिक सभी प्रकार की विधियों से किया जाता है. कालाष्टमी पर भगवान शिव के रौद्र रूप काल भैरव की पूजा की जाती है. इस ज्येष्ठ माह में कालाष्टमी का पर्व 30 मई 2024 को मनाया जाएगा. कालाष्टमी पर व्रत रखने और काल भैरव की पूजा करने से व्यक्ति की सात्विक शक्तियां बढ़ती हैं. जीवन में शुभता का आगमन होता है. आइये जान लेते हैं कालाष्टमी के दिन तंत्र भैरव के नाम का महत्व 
 

तंत्रभैरवों के अष्टभैरव

तंत्र भैरव में अष्ट भैरव का नाम बहुत विशेष माना गया है. यह सभी भैरव भक्तों की रक्षा करने वाले तथा हर प्रकार की नकारात्मकता को दूर करने वाले हैं. कालाष्टमी के दिन इनके नाम मात्र से ही सभी बुरी शक्तियां ध्वस्त हो जाती हैं और भक्त को सुख की प्राप्ति होती है. 
  • असितांग भैरव
  • चंड भैरव
  • रूरू भैरव
  • क्रोध भैरव
  • उन्मत्त भैरव
  • कपाल भैरव

मासिक कालाष्टमी पूजा लाभ 

कालाष्टमी के दौरान भैरव की विशेष पूजा की जाती है, जो भक्ति भाव के साथ होती है पूजा के दौरान भैरव बाबा के विभिन्न रुपों की पूजा की जाती है. इस पूजा द्वारा इच्छाओं की पूर्ति और खुशहाल और स्वस्थ जीवन के लिए बाबा आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है. भैरव पूजा को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भैरव चालिसा एवं नाम जाप द्वारा पूजा की जाती है.

ज्योतिष अनुसर भी कालाष्टमी पूजा कुंडली दोषों के समाधान के लिए विशेष होती है. भक्त आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार से पूजा और यज्ञ करते हैं. इसमें कोई संदेह नहीं है कि कालाष्टमी के दौरान की जाने वाली पूजा का विशेष महत्व है. इस उत्सव के दौरान भैरव पूजा के यज्ञ इत्यादि को करने से व्यक्ति को कई लाभ मिल सकते हैं. 

भैरव बाबा की आरती 
 जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा ।
जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
तुम्हीं पाप उद्धारक दु:ख सिंधु तारक । जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
वाहन शवन विराजत कर त्रिशूल धारी । जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
महीमा अमित तुम्हारी जय जय भयकारी ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होंवे । जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
चौमुख दीपक दर्शन दु:ख सगरे खोंवे ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी । जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
कृपा करिये भैरव करिये नहीं देरी ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
पांव घुंघरु बाजत अरु डमरु डमकावत ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
बटुकनाथ बन बालक जन मन हरषावत ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
बथुकनाथ की आरती जो कोई नर गावें । जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
कहें धरणीधर नर मनवाछिंत फल पावे ।। जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।

ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें- https://www.myjyotish.com/talk-to-astrologers 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X