myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Mars is transiting in Aries, know what will be the effect in 12 zodiac signs

1 June Mangal Gochar: मंगल ग्रह का मेष राशि में हो रहा है गोचर, जानिए 12 राशियों में क्या होगा असर

Nisha Thapaनिशा थापा Updated 27 May 2024 03:14 PM IST
मंगल का मेष राशि में गोचर
मंगल का मेष राशि में गोचर - फोटो : My Jyotish

खास बातें

1 June Mangal Gochar: मंगल ग्रह, मीन राशि से निकलकर मेष राशि में प्रवेश करने जा रहा है, जिसके चलते सभी 12 राशियों के जीवन में बदलाव देखने को मिलेगा। तो आइए जानते हैं, किस प्रकार का बदलाव इन राशियों के जातकों के जीवन में होने वाला है।
विज्ञापन
विज्ञापन
वेदिक ज्योतिष के अनुसार, मंगल को ग्रहों का सेनापति कहते हैं। इसका मतलब यह है कि मंगल में बहुत शक्ति होती है, और इस शक्ति के कारण ऐसे लोग बड़े लक्ष्यों को हासिल करने में सफल रहते हैं। मंगल रक्त का कारक है, इसलिए अगर आपकी जन्मपत्रिका में मंगल मजबूत नहीं है, तो आप स्वस्थ रहने के लिए संघर्ष कर सकते हैं, या फिर कम से कम आपको उतनी आसानी नहीं होगी। यदि मंगल कमज़ोर होता है, तो आप दुखी और बीमार महसूस करते हैं।

ग्रहों के सरदार मंगलग्रह 1 जून को मीन राशि छोड़कर मेष राशि में चले जाएँगे। वह 12 जुलाई तक मेष राशि में रहेंगे, क्योंकि यह उनकी अपनी राशि है। जब मंगलग्रह एक राशि से दूसरी राशि में बदलते हैं, तो सभी 12 राशियों पर इसका असर पड़ता है। आइए पता करें कि मंगल ग्रह की इस चाल का आप पर क्या प्रभाव हो सकता है?
 

मेष राशि


मेष राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर उनके पहले भाव में होने वाला है। मेष राशि के जातकों के लिए, मंगल पहले और आठवें घर के स्वामी होते हैं। इस भाव से जातक के व्यक्तित्व और स्वास्थ्य के बारे में पता लगता है।  मेष राशि के जातकों के लिए यह गोचर काफी शुभ होने वाला है, क्योंकि इस भाव में विद्यमान मंगल की दृष्टि चौथे, सातवें और आठवें घर पर पड़ेगी, जिससे मेष राशि के जातकों के लिए समय सकारात्मक रहेगा। रहस्यवाद और तंत्र-मंत्र में आपकी रुचि बढ़ेगी और आपका व्यक्तित्व उज्जवल होगा। फिर भी, आपको अपने गुस्से पर नियंत्रण करने की आवश्यकता है। दांपत्य जीवन में थोड़ी मुश्किलें आ सकती हैं और आपको परिवार में बहस करने से बचना चाहिए।  मेष राशि के जातक यदि समुद्री व्यवसाय करते हैं,  तो उनके लिए मंगल का यह गोचर काफी लाभदायक रहने वाला है। टेक्निकल लाइन के छात्रों, जैसे की इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए यह गोचर शुभ होगा। इसके साथ ही विदेशी संबंधों से लाभ के अवसर दिख रहे हैं। 
 

वृषभ राशि 


वृषभ राशि के जातकों के लिए मंगल का यह गोचर उनके द्वादश भाव में हो रहा है। इसके साथ ही वृषभ राशि के जातकों के लिए मंगल, सप्तम और द्वादश भाव का स्वामी होता है। इस भाव से व्यक्ति की विदेश यात्राएं होने की संभावना बनी रहती है। देखा जाए तो इस राशि के जातकों के लिए यह गोचर थोड़ा कष्टदायक होने वाला है, क्योंकि इस भाव में विराजमान मंगल की दृष्टि वृषभ राशि की जातकों की तृतीय, छठे और सप्तम भाव में पड़ने वाली है। आपके लाभ के अवसर कम होने वाले हैं और खर्चों में वृद्धि हो सकती है। वहीं, देखा जाए तो प्रेम संबंधों के लिए भी यह गोचर शुभ फल नहीं दे रहा है। कार्य के सिलसिले में आप अपनी पत्नी से दूर जा सकते हैं। इस समय आपकी यात्रा बहुत होगी। नौकरी में लाभ के अवसर दिख रहे हैं, साथ ही आपके शत्रु भी खत्म होंगे।
 

मिथुन राशि


मिथुन राशि के जातकों के लिए यह गोचर लाभदायक होने वाला है। मंगल का गोचर मिथुन के लाभ स्थान पर हो रहा है। इस राशि की जातकों के लिए मंगल छठे और लाभ स्थान का ही स्वामी होता है। मंगल, इस भाव में विराजमान होकर मिथुन राशि के तृतीय, पंचम और छठे भाव पर दृष्टि डाल रहा है। यदि इस राशि के जातक मार्केटिंग या रियल एस्टेट के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, तो उन्हें अच्छी सफलता हाथ लग सकती है। इसके अलावा व्यवसायियों को व्यवसाय में विस्तार के अवसर प्राप्त होते दिख रहे हैं। शेयर बाजार में भी आपके लाभ के अवसर दिख रहे हैं। यदि आप नौकरी तलाश रहे हैं, तो आपको एक अच्छी नौकरी प्राप्त हो सकती है। आपके शत्रु खत्म होंगे और आपके परिवार की पैतृक संपत्ति मिल सकती है। 
 

कर्क राशि


कर्क राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर उनके दशम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से जातक के प्रसिद्धी और कार्यक्षेत्र का पता किया जाता है।  इस राशि के लिए मंगल पांचवें और दसवें भाव का स्वामी होता है। मंगल दसवें भाव में विराजमान होकर कर्क राशि के जातकों के प्रथम चतुर्थ और पंचम भाव पर दृष्टि डाल रहा है। मंगल का यह गोचर कर्क राशि के जातकों के लिए कार्य स्तर पर सफलता दिला सकता है। यदि आप कोई नई संपत्ति खरीदना चाहते हैं, तो आपका यह सपना पूरा हो सकता है। प्रेम संबंधों में यह गोचर थोड़ी कड़वाहट पैदा कर सकता है। आप अपने प्रेमी के साथ अलगाव महसूस कर सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ देखें तो सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। आपको थोड़ी सी सावधानी बरतने की जरूरत है। क्रोध अधिक होने से आपको नुकसान हो सकता है। 
 

सिंह राशि


सिंह राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर उनके भाव के स्थान पर हो रहा है। इस राशि के जातक के लिए भाव का स्वामी है, मंगल के गोचर से आपकी धार्मिक यात्रा हो सकती है। मंगल आपके भाग्य स्थान पर विराजमान होकर आपके द्वादश, तृतीय और चतुर्थ भाव पर दृष्टि डाल रहा है। मंगल का यह गोचर आपके भाग्य में वृद्धि कर सकता है। यदि आप कोई नया व्यवसाय या साझेदारी करना चाहते हैं, तो आपको अपने पिता की ओर से पूर्ण रूप से आर्थिक मदद मिलेगी। यात्राओं से भी लाभ प्राप्त होगा। आपकी वाणी मधुर रहेगी और आप अपनी वाणी से भी अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। पारिवारिक दृष्टि से देखें, तो भाई-बहनों के साथ भी आपके संबंध का भी अच्छे बने रहेंगे।
 

कन्या राशि


कन्या राशि के जातकों के लिए यह गोचर थोड़ा सा अशुभ होने वाला है, क्योंकि मंगल का गोचर कन्या राशि के जातकों के लिए अष्टम भाव में हो रहा है और कन्या राशि के जातक के लिए मंगल का गोचर अष्टम भाव में होने जा रहा है। अष्टम भाव से दुर्घटना, हानि, शत्रु या अचानक घटनाओं पर विचार किया जाता है और इस भाव में विराजमान होकर मंगल की दृष्टि, कन्या राशि के जातकों के द्वितीय, तृतीय और एकादश भाव पर रहेगी। इसके साथ ही कन्या राशि के जातकों को थोड़ी आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए आपको 12 जुलाई तक किसी भी व्यक्ति को उधार धन में नहीं देना चाहिए। आपको अपनी वाणी में संयम रखने की आवश्यकता है। व्यवसाय में यदि आप लाभ की उम्मीद कर रहे हैं, तो फिलहाल आपको लाभ प्राप्त नहीं होगा। कोर्ट कचहरी के मामलों में आपको हार का सामना करना पड़ सकता है। भाई-बहनों का सहयोग भी काम हो सकता है इसके साथ ही पैतृक संपत्ति को लेकर वाद-विवाद बढ़ सकता है।
 

तुला राशि


इस राशि के जातकों के लिए यह गोचर थोड़ा मिला-जुला सा रहने वाला है। तुला राशि के जातकों के लिए मंगल सातवें भाव का स्वामी है। मंगल का यह गोचर तुला राशि के सप्तम भाव में ही होने जा रहा है। सातवें भाव में विराजमान होकर मंगल, तुला राशि के जातकों के प्रथम, द्वितीय और दसवें भाव में दृष्टि डाल रहा है। वैवाहिक जीवन में देखें, तो थोड़ी तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है और मतभेद हो सकते हैं। क्रोध अधिक रहेगा, हालांकि आपको क्रोध में संयम बरतने की जरूरत है। वहीं देखा जाए तो आपके पैतृक संपत्ति में बढ़ोतरी हो सकती है। यदि आप अपने पिता का व्यवसाय कर रहे हैं, तो आपको आर्थिक दृष्टि से काफी लाभ प्राप्त हो सकता है, यदि कोई पार्टनरशिप में नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, तो भी यह समय आपके लिए अनुकूल रहने वाला है।
 

वृश्चिक राशि


वृश्चिक राशि के जातकों के लिए यह गोचर काफी लाभदायक होने वाला है। इस राशि के जातकों के लिए मंगल पहले और छठे भाव का स्वामी होता है और मंगल का गोचर वृश्चिक राशि की जातकों की छठे भाव में होने जा रहा है।  छठे भाव में विराजमान मंगल का गोचर आपके प्रथम, भाग्य और द्वादश भाव में दृष्टि डाल रहा है। इस भाव से जातक के शत्रु, रोग एवं ऋण पर विचार किया जाता है। कार्यक्षेत्र में वृद्धि होगी और आपका प्रमोशन किया जा सकता है। आपके शत्रु परास्त होंगे और यदि आप इस समय नौकरी तलाश कर रहे हैं तो आपको अच्छी नौकरी प्राप्त हो सकती है। वहीं आपके कार्यक्षेत्र में आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी। आप धार्मिक यात्राएं कर सकते हैं और आपको उन यात्राओं से काफी लाभ प्राप्त हो सकता है। इसके साथ ही आपको उच्च शिक्षा के लिए विदेश यात्रा भी करनी पड़ सकती है। मंगल के गोचर से आपका भाग्य आपके साथ रहने वाला है। 
 

धनु राशि


धनु राशि के जातकों के लिए मंगल का यह गोचरथोड़ा सा कष्टदायक रह सकता है, हालांकि कुछ चीजों से आपको लाभ भी प्राप्त हो सकता है। इस राशि के जातक के लिए मंगल पंचम और द्वादश भाव का स्वामी होता है और मंगल का गोचर धनु राशि के जातकों के पंचम भाव में ही हो रहा है। पंचम भाव से व्यक्ति की शिक्षा बुद्धि संतानऔर प्रेम पर विचार किया जाता है। पंचम भाव में विराजमान होकर मंगल की दृष्टि आपकेअष्टम भाव, लाभ स्थान और द्वादश भाव पर पड़ने वाली है। धनु राशि के जातक संतान पक्ष से थोड़े परेशान रह सकते हैं और उनके साथ थोड़ी मतभेद भी हो सकती है। इस समय आपको सेहत का भी खास ध्यान देना पड़ेगा। जो लोग रियल स्टेट में कारोबार कर रहे हैं, उन्हें अच्छा मुनाफा प्राप्त हो सकता है आपको ड्राइविंग के समय थोड़ी सावधानी बरतने की  जरूरत है। इसके साथ ही आप कार्य के सिलसिले में विदेशी यात्रा पर भी जा सकते हैं। 
 

मकर राशि 


मकर राशि के लिए मंगल का गोचर पारिवारिक दृष्टि से सही नहीं रहने वाला है, क्योंकि मंगल का गोचर मकर राशि के चौथे भाव में होने जा रहा है। मकर राशि के जातकों की लिए मंगल, चतुर्थ और लाभ स्थान का स्वामी है। चतुर्थ भाव में विराजमान मंगल की दृष्टि मकर राशि के सप्तम, दशम और लाभ स्थान पर पड़ने वाली है। मंगल के गोचर से मकर राशि के जातकों को पारिवारिक मदभेद का सामना करना पड़ सकता है। मकर राशि के जातक माता की सेहत को लेकर भी थोड़े परेशान हो सकते हैं। यदि आप अपने प्रेमी को परिवार से मिलवाना चाहते हैं तो यह आपके लिए अच्छा समय रहेगा। आप अपने जीवनसाथी के साथ कहीं बाहर घूमने का प्लान भी बना सकते हैं। वहीं देखा जाए तो विद्यार्थियों और सरकारी नौकरी वाले लोगों के लिए यह गोचर मान सम्मान दिला सकता है। आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी और आप यदि अपने व्यवसाय में विस्तार करने की सोच रहे हैं तो यह आपके लिए शुभ हो सकता है। 
 

कुंभ राशि 


कुंभ राशि के जातकों के लिए मंगल, तीसरे और दसवें भाव का स्वामी है। तीसरे भाव से जातक के भाई-बहनों और साहस तथा पराक्रम का पता किया जाता है। तीसरे भाव में विराजमान होकर मंगल आपके छठे, भाग्य स्थान और दशम भाव में दृष्टि डाल रहा है। इससे आपके पराक्रम और साहस में भी वृद्धि होगी। यदि कुंभ राशि के जातक इस समय नौकरी बदलना चाहते हैं, तो यह आपके लिए अच्छा समय है, क्योंकि आपको एक अच्छी और बड़ी नौकरी प्राप्त हो सकती है। कुंभ राशि के जातकों की वाणी भी प्रभावी रहेगी और आप एक टीम लीडर के तौर पर संपादित भी हो सकते हैं। आपके शत्रु खत्म होंगे और आप एक धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते हैं।
 

मीन राशि 


मीन राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर, दूसरे भाव में होने जा रहा है और मीन राशि के जातकों के लिए यह मंगल, भाग्य स्थान एवं दूसरे भाव का स्वामी होता है। दूसरे भाव में विराजमान होकर आपके भाग्य स्थान, अष्टम और पंचम भाव में दृष्टि डाल रहा है। मंगल का यह गोचर मीन राशि के जातकों को थोड़ी सी तकलीफ दे सकता है। पारिवारिक दृष्टि से देखें तो आपकी वाणी में  थोड़ी कड़वाहट आ सकती है, जिसके कारण परिवार के सदस्यों के साथ अनबन हो सकती है। प्रेम संबंधों के लिए भी यह गोचर अच्छा नहीं और विद्यार्थियों को भी पढ़ाई में थोड़ी तकलीफ आ सकती है। आपको अपनी सेहत का खास ध्यान देना पड़ेगा। मित्रों पर भी अत्यधिक विश्वास ना करें, मंगल के गोचर से किसी धार्मिक यात्रा पर जा सकते हैं। 

ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें- https://www.myjyotish.com/talk-to-astrologers
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X