myjyotish

8595527216

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Mahashivratri 2021 Why is it considered special to stay awake on the night?

महाशिवरात्रि के रात में जगे रहना क्यों माना जाता है ख़ास ?

Myjyotish Expert Updated 08 Mar 2021 01:14 PM IST
Mahashivratri
Mahashivratri - फोटो : Myjyotish
हर साल महाशिवरात्रि का पर्व बड़े धूम धाम से मनाया जाता है. श्रद्धालु भगवान शिव की पूजा अर्चना करने सुबह मंदिरों में पहुँच जाते हैं. इसमें बड़े से छोटे सभी वर्ग के लोग भाग लेते हैं और उत्साह मनाते है. वहीं, हर साल शिव पार्वती की शोभायात्रा भी निकाली जाती है और लोग देवो के देव महादेव की भक्ति में लीन हो जाते हैं. यह पर्व हर साल भक्ति भाव से मनाया जाता है और इस दिन अपनी मनोकामना पूरी  लोग व्रत भी रखते हैं. तो आइए जानते हैं कि क्या है महाशिवरात्रि करने का सही नियम और उसके फायदे।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT

 
महाशिवरात्रि में भगवान शिव की पूजा का बड़ा महत्व है क्यूंकि इसे पुरे विधि पूर्वक करने से सुख शान्ति के साथ आपको भगवान के आशीर्वाद भी प्राप्त होते हैं. ऐसा माना जाता है कि अगर  कोई पुरुष इस दिन व्रत रखता है तो उसे धन दौलत की प्राप्ति होती है, वहीं अगर महिलाएं व्रत रखती है तो सुख सौभाग्य और संतान की प्राप्ति होती हैI
 
गरुड़ पुराण के अनुसार, शिवरात्रि से एक दिन पहले शिव जी की पूजा करनी चाहिए और व्रत का संकल्प भी लेना चाहिए। महाशिवरात्रि वाले दिन प्रातः उठकर गर्म पानी और काले तिल से स्नान करना चाहिए, इससे तन और मन दोनों ही पवित्र हो जाते हैं. मंदिर जाकर भगवान का ध्यान करने के लिए दूध, जल और शहद अवश्य लेकर जाएं और उनका अभिषेक करें। इसके अलावा शिवलिंग पर बेलपत्र, भांग, धतूरा भी चढ़ाना चाहिए, इससे वह प्रसन्न होते हैं. बता दें कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान् शिव को जल चढ़ाने से विशेष पुण्य प्राप्त होता है. इस दिन व्रत रखने वाले पुरे दिन उनकी पूजा अर्चना में लीन होते हैं और शाम होते ही वह फिर से स्नान कर के मंदिर के आरती में शामिल हो जाते हैं. पूरी पूजन विधि में "ॐ नमः शिवाय" मंत्र से पूजा करनी चाहिए। अगले दिन प्रातः काल ब्राह्मणों को दान दक्षिणा देकर व्रत का परायण करना चाहिए।

 इस महाशिवरात्रि अपार धन ,वैभव एवं संपदा प्राप्ति हेतु ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रूद्राभिषेक : 11 मार्च 2021
 
गरुड़ पुराण के अनुसार, भगवान् शिव को बेलपत्र अवश्य अर्पित करना चाहिए उन्हें यह बेहद प्रिय हैI वहीं, शिव महा पुराण के अनुसार शिव जी को रुद्राक्ष, बेलपत्र, भांग, शिवलिंग, शिवलिंग और कशी अति प्रिय है. इस दिन दान करना भी काफी पुण्य माना जाता हैI
 
व्रत में क्या खाएं ?
अगर आप निर्जला व्रत नहीं रख सकते तो सेंधा नमक से बनी चीज, फल, दूध या दूध से बानी निर्मित चीजें का ग्रहण कर सकते हैं| चावल, आटा और दाल का सेवन भूल से भी नहीं करना चाहिए। इसके अलावा आलू या लौकी से बनी चीजें खा सकते हैं और कुट्टू के आंटे से बानी पूड़ी, सिंघाड़े का आंटा भी इस्तेमाल कर सकते हैं|

यह भी पढ़ें :- 

बीमारियों से बचाव के लिए भवन वास्तु के कुछ खास उपाय !  

क्यों मनाई जाती हैं कुम्भ संक्रांति ? जानें इससे जुड़ा यह ख़ास तथ्य !

जानिए किस माला के जाप का क्या फल मिलता है
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X