Lord Shree Ganesh Will Remove All The Sufferings Of His Devotees - प्रभु श्री गणेश दूर करेंगे अपने भक्तों के सभी कष्ट - Myjyotish News Live
myjyotish
हेल्पलाइन नंबर

9818015458

  • login

    Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Lord Shree Ganesh will remove all the sufferings of his devotees

प्रभु श्री गणेश दूर करेंगे अपने भक्तों के सभी कष्ट

My Jyotish Expert Updated 03 Apr 2020 05:10 PM IST
Lord Shree Ganesh will remove all the sufferings of his devotees
भगवान श्री गणेश महादेव और पार्वती जी के पुत्र हैं। किसी भी शुभ काम या पूजा से पहले श्री गणेश की पूजा की जाती है। संसार के सभी साधनों के देव श्री गणेश को कहा गया है। हाथी का सिर होने के कारण इन्हे गजानन भी कहा जाता है। गणेश जी की पूजा करने वाले संप्रदाय गाणपत्य कहलाते हैं। गणपति आदिदेव हैं, इन्होने हर युग में अवतार लिए हैं। उनकी शारीरिक संरचना में भी विशिष्ट और गहरा अर्थ छुपा हुआ है। शिवमानस में श्री गणेश को प्रणव कहा गया है। उनकी चारों भुजाओं को संस्कार की व्यापकता का प्रमाण माना गया है।

हिन्दू संस्कृति में श्री गणेश का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। ना केवल मनुष्य परन्तु देवता भी अपने कार्यों को बिना विघ्न के संपन्न करने के लिए सर्वप्रथम श्री गणेश  की पूजा करते हैं। बुधवार का दिन श्री गणेश की पूजा के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। गणेश का अभिषेक करने से वह अपने भक्तों से प्रसन्न होकर हर मनोकामना को पूर्ण कर देते हैं। गणेश जी को बूंदी के लड्डू बहुत पसंद है तथा उसे भोग स्वरुप यह चढ़ाने से धन प्राप्ति के योग बनते है।

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

मान्यताओं के अनुसार किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के बुधवार दिन पर घर में मिट्टी से गणेश जी की मूर्ति बनाई जाती है। तत्पश्चात् मिट्टी से बनी गणेश जी की मूर्ति का विधिवत पूजन किया जाता है। ताजे गन्ने के रस से उनका अभिषेक कर उन्हें 108 दुर्वा अर्पित किए जाते हैं। ऐसा करने से भगवान श्री गणेश भक्तों के जीवन में आ रहे सभी विघ्नों को हर लेते हैं तथा सुखी जीवन का आशीर्वाद प्रदान करते हैं।
भगवान श्री गणेश की पूजा से पहले सदैव ध्यान रखे की उनका आसन पीले रंग के कपड़े से बना हुआ हो। उनकी स्थपना के समय पीले रंग के कपड़े ही अर्पण करें। इनसे सच्चे मन से पूजा कर इच्छापूर्ति की कामना करें। गरीबों को फल दान जरूर करें। ऐसा करने से गणेश जी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है।

यह भी पढ़े

देवी दुर्गा की नौवीं शक्ति हैं माँ सिद्धिदात्री

जानिए शुक्ल पक्ष की नवमी को क्यों कहा जाता है राम नवमी

विष्णु की पूजा से होगी धन - धान्य की प्राप्ति
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X