myjyotish

8595527216

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Kundali : special importance of different sections

कुंडली के 12 भाव एवं उनका आपके जीवन में ख़ास महत्व !

Myjyotish Expert Updated 23 Jan 2021 02:04 PM IST
कुंडली के 12 भाव : महत्व
कुंडली के 12 भाव : महत्व - फोटो : Myjyotish
ज्योतिष के अनुसार जन्मकुंडली में बारह भावों की रचना की जाती है। हर भाव मनुष्य के जीवन की कोई अव्यवस्था, घटना की ओर संकेत करता है। आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से। 
  • प्रथम भाव : इसे लग्न भाव के नाम से भी जाना जाता है। इस भाव से व्यक्ति की शरीर संरचना, पित्त-कफ के बारे में, यश-अपयश से जुड़ी बातें, पूर्वजों का आशीष, आत्मविश्वास, मानसिकता आदि के बारे में पता किया जाता है। 
  • द्वितीय भाव : इसे धन भाव के नाम से भी जाना जाता है। व्यक्ति के आर्थिक हालात, घर का सुख, दाईं आँख, वचन, आहार, शिक्षा, संपत्ति के बारे में पता किया जाता है। 
  • तृतीय भाव : इसे पराक्रम के सहज भाव के नाम से भी जाना जाता है। इससे जातक की शक्ति, भाई-बहन, नौकर, पराक्रम, धैर्य, श्वास से जुड़े अंग, कर्ण, हाथ, कंधों आदि के बारे में जाना जाता है। 
  • चतुर्थ स्थान : इस भाव को मातृ स्थान के नाम से भी जाना जाता है। इससे मातृ-सुख, गृह शांति, वाहन सुख,जमीन, मित्रों, सीने और उदर के रोग, मानसिक शांति आदि के बारे में जाना जाता है
  • पंचम भाव : इसे सुत भाव के नाम से भी जाना जाता है। इससे संतान, संतान से मिलने वाला सुख, बुद्धि, उच्चतम शिक्षा, देशभक्ति, उदर की पाचन शक्ति, कलाओं, शास्त्रों में रुचि, धन-लाभ, प्रेम में सफलता, नौकरीयों आदि के बारे में जाना जाता है। 
  • छठा भाव : इसे शत्रु या रोग भाव के नाम से भी जाना जाता है। इससे व्यक्ति के दुश्मन, बीमारियां, डर, लड़ाइयां, कोर्ट-कचहरी, मामा, नौकर, आदि के बारे में जाना जाता है। 
कुंडली मिलान जरुरी क्यों ? 
  • सातवाँ भाव : विवाह का सुख, शैय्या का सुख, जीवनसाथी, व्यापार, लंबे सफर आदि के बारे में जाना जाता है। इसे विवाह स्थान के नाम से भी जाना जाता है। 
  • आठवाँ भाव : इस भाव को काल स्थान के नाम से भी जाना जाता है। इससे आयु, तकलीफ, धन, मानसिक कष्ट के बारे में जाना जाता है। 
  • नवाँ भाव : इसे भाग्य भाव के नाम से भी जाना जाता है। यह स्थान आध्यात्मिक हालात, बुद्धि, परदेश सफर, लेखन, तीर्थ, दूसरा विवाह आदि के बारे में जाना जाता है। 
  • दसवाँ भाव : इसे कर्म स्थान नाम से भी जाना जाता है इससे पद, मालिक, सामाज में सम्मान, कार्य, पितृ सुख, नौकरी, घुटनों में दर्द, सासू माँ आदि के बारे में जाना जाता है। 
  • ग्यारहवाँ भाव : इसे लाभ भाव के नाम से भी जाना जाता है। इससे दोस्तों, बहू, उपहार, कमाई, पिंडली आदि के बारे मे जाना जाता है। 
  • बारहवाँ भाव : इसे व्यय भाव भी कहते हैं। इससे लाभ, कर्ज, घाटा, आचरण, गुप्त दुश्मन, जेल यातना, के बारे में जाना जाता है।
यह भी पढ़े :-              पूजन में क्यों बनाया जाता है स्वास्तिष्क ? जानें चमत्कारी कारण

यदि कुंडली में हो चंद्रमा कमजोर, तो कैसे होते है परिणाम ?

संतान प्राप्ति हेतु जरूर करें यह प्रभावी उपाय
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X