myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Know why Chinnamastika Jayanti is celebrated

जानिए क्यों मनाई जाती है छिन्नमस्तिका जयंती

MyJyotish Expert Updated 04 May 2020 07:05 PM IST
Know why Chinnamastika Jayanti is celebrated
देवी छिन्नमस्ता दसमहाविद्याओं में तीसरी महाविद्या है। उनकी आराधना शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए की जाती है। वह शक्ति का भयावह रूप है परन्तु उनके त्याग व साहस का मुक़ाबला इस संसार में कोई भी नहीं कर सकता है। अपनी प्रतिमा स्वरूप  में वह छिन्न मस्तक हैं। अपने स्वरूप द्वारा उन्होंने संसार को त्याग और साहस का पाठ पढ़ाया है। देवी ने यह स्वरूप अपने बच्चों की मनोकामना की पूर्ति के लिए लिया है।

छिन्नमस्तिका जयंती पर बिष्णुपुर के छिन्नमस्ता मंदिर में कराएं अनुष्ठान और पाएं कर्ज से मुक्ति : 7-मई-2020

मान्यताओं के अनुसार देवी अपनी सहेलियों जया और विजया की भूख को समाप्त करने के लिए अपना शीश अपने शरीर से अलग कर देती हैं। उनके धड़ निकले  रक्त का पान करके जया और विजया का जीवन सफल बन जाता है। उनके धड़ से रक्त की तीन धाराएं निकलती हैं जिसमें से एक जया के मुख में दूसरी विजया के मुख में तो तीसरी स्वयं माता के मुख में जाती है।

मंगलवार के दिन पंचमुखी संकट मोचन मंदिर में कराएं महाबली हनुमान की पूजा और पाएं शत्रुओं के संकट से मुक्ति

देवी की कृपा से भक्तों का कल्याण होता है। इस रूप में देवी ने समाज को दर्शाया है की किस प्रकार एक माँ अपने सुखों का त्यागकर अपने बच्चों के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। एक माँ की शक्ति से बढ़कर संसार में दूसरी कोई और शक्ति नहीं जो स्वयं की इच्छाओं से पहले किसी और का सोचें। देवी वह प्रतिमा हैं जो मनुष्य को बलिदान की शक्ति का एहसास दिलाने में सक्षम होती है।

उनकी उत्पन्नता के दिन को ही छिन्नमस्ता जयंती के रूप में मनाया जाता है। देवी अपने भक्तों पर आने वाली विपदाओं से सदैव उनकी रक्षा करती हैं। उन्हें किसी प्रकार के दुःख का सामना नहीं करने देती। उनकी पूजा के लिए व्यक्ति को जयंती के दिन प्रातः काल उठकर स्नान आदि कर लेना चाहिए। देवी की विधिवत पूजा आराधना करनी चाहिए। देवी की पूजा विशेष रूप से यदि शाम के समय की जाए तो वह शुभ माना जाता है। उन्हें सरसों के तेल से जलाएं दीपक अर्पण करने चाहिए। उन्हें उड़द से बने मिष्ठान का भोग लगाना चाहिए। उन्हें नीले फूल अर्पण करने चाहिए। तथा देवी के मंत्रों का उच्चारण करके पूजा संपन्न करनी चाहिए। माना जाता है की सच्चे मन से देवी की उपासना करने पर देवी अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती हैं।

यह भी पढ़े :-

शनि देव की आराधना से दूर हो जाते हैं साढ़े साती के प्रभाव

नारायण की आराधना से होती है संतान सुख की प्राप्ति

जानिए भगवती भवानी कैसे करेंगी अपने भक्तों का उद्धार
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X