myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   know what does Rhea Chakraborty birth chart say janam kundali

क्या कहती है रिया चक्रवर्ती की जन्म कुंडली

Myjyotish expert Updated 30 Jun 2021 09:25 PM IST
Rhea Chakraborty birth chart
Rhea Chakraborty birth chart - फोटो : Myjyotish

रिया की कुंडली कन्या लग्न की है। ग्रहों की बात करें तो चतुर्थ भाव में धनु राशि में राहु, पंचम भाव में शनि मकर राशि, अष्टम भाव में मेष राशि का मंगल, दशम भाव में शुक्र, सूर्य और केतु, ग्यारवें भाव में बुध और बाहरवें भाव में बृहस्पति विराजमान हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


11वें भाव में लग्नेश होने के कारण उन्हें सभी क्षेत्रों में लाभ होगा और जातिका को अपने दोस्तों से मदद मिलेगी और 11वें और 10वें भावों की मित्रता के कारण उनके बीच आदान-प्रदान से जातिका को करियर से संबंधित चीजों में मदद मिलेगी क्योंकि 10वां भाव इसमें शामिल है।

इसके अलावा लग्न का स्वामी 11वें और 5वें घर से स्वयं के 5वें भाव को देख रहा है, जो जातिका को बहुत बुद्धिमान बनाता है। शनि नक्षत्र में बुध, 5 वें घर और 6 वें घर के बीच मजबूत संबंध बनाता है।

शुक्र, सूर्य, चन्द्र, केतु एकसाथ दसवें घर में है जो की करियर का भाव होता है, वहाँ तीन से अधिक ग्रह हैं, धन स्वामी और भाग्य स्वामी 10वें भाव में 11वें स्वामी के साथ एक शक्तिशाली धन योग बना रहे हैं । 11वें और 10वें के बीच एक और धन योग है जिसकी वजह से जातिका को जीवन में प्रसिद्धि मिली है।

लेकिन दसवें घर में केतु और राहु की नीच दृष्टि दसवें घर में और बारहवें स्वामी दसवें घर में हैं जो जातिका के लिए चीजें गलत कर रहे हैं। सूर्य और चंद्रमा पर राहु की दृष्टि जातिका के लिए अच्छी नहीं है। इसके अलावा मूल नक्षत्र में राहु और मृगशिरा में केतु उन्हें समाज में बदनामी दे रहे हैं।

6 वां स्वामी शनि है और 7 वें घर को देख रहा है और अपनी उच्च राशी में 11वें घर में और दूसरे भाव में दृष्टि दे रहे हैं जो रिश्तों का और व्यापार का घर होता है। धन के मामलों के योग बहुत मजबूत है। वहीं मंगल राहु केतु के साथ संबंध उसके जीवन में समृद्धि नहीं दे रहा है। बृहस्पति जो की रिश्तों के स्वामी है कुंडली में हानि के घर में विराजमान हैं।

बृहस्पति के नक्षत्र में शुक्र और शुक्र नक्षत्र में बृहस्पति का होना, करियर हाउस और लॉस हाउस के बीच नक्षत्र का आदान-प्रदान। बृहस्पति का वर्गोत्तम में होना अच्छी बात है।

कुंडली में आठवें घर में राहु और केतु के साथ चंद्रमा, उपचय भाव में शत्रु राशि में सूर्य शनि और संबंध घर पापकर्तरी योग में है क्योंकि यह मंगल और केतु के बीच है। नवमांश में बृहस्पति सूर्य के साथ सिंह राशि में शनि के साथ है

देखिए अपनी जन्म कुण्डली जो दिखाएगी भाग्योदय का रास्ता, यहाँ क्लिक करें

राशि चार्ट में:

आठवें मंगल से ग्यारहवें घर पर दृष्टि और दूसरे भाव पर सातवीं दृष्टि से, अपने तीसरे घर पर आठवीं दृष्टि से, आठवें भाव का आठवां स्वामी जातिका को लंबी उम्र देगा। जातिका सुस्त प्रकृति की नहीं है, वह बहुत ही ऊर्जावान है।

बुध शनि मंगल से प्रभावित है और चंद्रमा स्वभाव से दोनों ही अशुभ हैं। इसके अलावा, शनि की मूल त्रिकोण राशि 6 वें स्थान पर पड़ती है जो कोर्ट केस, अस्पताल, ऋण आदि के कारक होंगे। बुध का कर्क राशि में के घर में होना जातिका को बहुत भावुक बनता है। वहीं शुक्र का राहु और केतु के 12 वें घर के साथ संबंध भी इन्हें पेशे में बदनामी दे रहा है। शुक्र मेष राशि में है और छठे भाव से मंगल की दृष्टि पड़ रही है।

सिंह लग्न में उदय हो रहा है और सूर्य मित्र राशि में चतुर्थ भाव में है और चतुर्थ भाव से दशम भाव में दृष्टि दे रहा है, जो सरकार से मदद के लिए अच्छा योग है। लग्न में केतु, राहु और चंद्रमा की साझेदारी, व्यापार के घर से दृष्टि में है। दो ग्रह नीच बृहस्पति और शनि हैं। बृहस्पति छठे भाव में है और शनि के घर में है वही मंगल के नौवें घर ने शनि है। बृहस्पति द्वितीय भाव (धन), 10वें (करियर) और 12वें भाव में अपने हीं घर में नीच दृष्टि दे रहा है। वहीं शनि बुध, मंगल और बृहस्पति पर नीच दृष्टि दे रहा है।

व्यापार घर राहु और चंद्र से प्रभावित हैं और व्यापार के स्वामी शनि दुर्बलता में है। बुध अपने घर में है लेकिन शनि की नीच से दृष्टि से प्रभावित है। व्यापार के कारक बृहस्पति जो की छठे नीच घर में हैं।

मंगल इस कुण्डली के लिए योगकारक है, यह तीसरे भाव में है और बृहस्पति पर चौथी दृष्टि शनि पर सातवीं दृष्टि और दसवें घर में आठवीं दृष्टि दे रहा है। शुक्र बृहस्पति के घर में पांचवें घर में दसवां स्वामी (कैरियर का भाव) है।  इसलिए जातिका को व्यापार और साझेदारी में कष्ट हो रहा है।

अरुधा लग्न का विश्लेषण-

अल लग्न 10 वें घर में सूर्य और द्रष्टि पर कब्जा कर रहा है और प्रसिद्धि दे रहा है।लेकिन अल लग्न प्रसिद्धि के मामले में अरुधा लग्न से 12वें स्थान पर हानि के भाव में है। अल साझेदारी और बाधाओं के A 7 + A8 घर से जुड़ता है। अल से चौथा घर  A3 + A4 + A5 द्वारा संयुक्त किया गया है लेकिन राहु और चंद्रमा और अल 4 वें के स्वामी कमजोर हैं। जो की यह साबित कर रहा है कि जातिका को व्यवसाय से संबंधित चीजों में नुकसान होगा। A10 (नाम, प्रसिद्धि, सरकार से समर्थन आदि) को 12वें घर में हैं और इसके स्वामी को अल के तीसरे भाव में फिर से नीचा दिखाया गया है।

सभी राशि चार्ट के 8 वें घर में आते हैं और सभी स्वामी राशि चार्ट में 6 वें घर में नीच में हैं।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X