myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   know the benefits of Gangajal and how it helps in fighting diseases

गंगाजल कई तरह के रोगों से लड़ने में मदद करता है, जानें इसके फायदें

myjyotish expert Updated 23 May 2021 02:30 PM IST
गंगाजल कई तरह के रोगों से लड़ने में मदद करता है,  जानें इसके फायदें
गंगाजल कई तरह के रोगों से लड़ने में मदद करता है, जानें इसके फायदें - फोटो : google
मां गंगा को भक्तों के कष्टों और पाप का उद्धार करने के लिए बहुत माना जाता है। कहते है कि मां गंगा सभी पापों को अपने अंदर समा लेती हैं और सुख और समृद्धि देते हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मां गंगा की पूजा-पाठ करने से और उसकी भक्ति में लीन होने से श्रृद्धालुओं के दुर्भाग्य और रोग दूर होते है। मान्यता है कि मां गंगा को स्पर्श करने से ही लोगों पवित्र हो जाते हैं। यह पवित्र गंगा जल लोगों के प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद और रोगों के खतरे को कम करता है। अगर वास्तु शास्त्र की मानें तो मां गंगा के पवित्र जल से कई रोगों से छुटकारा पाने के बारे में बताया गया है। तो आइए आज हम आप को बताते है कि इस पवित्र जल से लोगों के रोग कैसे दूर हो सकते है।

हिंदू धर्म के अनुसार, कहा जाता है कि  भगवान शिव को हर सोमवार को गंगाजल से अभिषेक करने से शिव जल्द ही अपने भक्तों से प्रसन्न होते है और हमेशा आशीर्वाद बना रहता है। गंगाजल को छूने से ही लोगों के वास्तु शुद्ध हो जाते है।
मान्यता है कि घर- मंदिर और कोई भी विशेष पूजा में अगर गंगाजल का इस्तेमाल नहीं किया गया है तो वह पूजा सफल नहीं मानी  जाती है, इसलिए पूजा में हमेशा गंगाजल का प्रयोग करें और उसके बाद अपने पूरे घर में हर जगह उस गंगाजल का छिड़काव करें ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है और साथ ही साथ मन को शांति और समृद्धि प्राप्त होती है।

अधिक जानने के लिए हमारे ज्योतिषियों से संपर्क करें

कहते है कि गंगाजल का सेवन करने से निमोनिया, मस्तिष्क ज्वर जैसी बीमारियों से मुक्ति मिलती है। व्यक्ति की लंबी होती और साथ ही 8 से भी ज्यादा शारीरिक बीमारियां दूर होती है। गंगाजल को कभी भी गंदे हाथों से नहीं छूना चाहिए। इसे हमेशा तांबे या चांदी के बर्तन में रखना चाहिए और जहां इसे रखा जाए उसके आस-पास साफ-सफाई का विशेष तौर पर ध्यान दें क्योंकि गंगाजल को शांति और घर में सुख का प्रतीक माना जाता है। इसका प्रयोग लोगों को मरने के बाद भी सेवन कराया जाता है जिसे मोक्ष की प्राप्ति हो सकें।  

यह भी पढ़े:
यह चमत्कारी मंदिर जो भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध हैं

जिस दिन आपने जन्म लिया था वह दिन आपके बारे में क्या कहता है, जानिए

जानें क्या है संकष्टी चतुर्थी की व्रत कथा और महत्व
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X