myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   know people born in different nakshatra have special blessings of Lord Jupiter and Lord Shani gives them success

किस नक्षत्र में जन्मे लोगों पर गुरूदेव बृहस्पति और शनि भगवान की विशेष कृपा होती है, जानें कैसे इन्हें हर कार्य में सफलता मिलती है

Myjyotish expert Updated 11 Jun 2021 10:11 AM IST
Nakshatra
Nakshatra - फोटो : Google

ज्योतिष के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि हर किसी ना किसी व्यक्ति का जन्म किसी नक्षत्र में  होता है।  हर नक्षत्र का एक स्वामी ग्रह जरूर होता है। ऐसे ही एक नक्षत्र के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे है। तो आइए जानते है पुष्य नक्षत्र के बारे में । 

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


मान्यताओं के मुताबिक इस नक्षत्र में जन्मे लोग कुछ ना कुछ नया करने के बारे में हमेशा विचार करते रहते है और इन्हें अपने काम में सफलता प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। यह भी कहां जाता है कि इस नक्षत्र के लोग बहुत ही बुद्धिमान होते है। ये अपने छोटे-से छोटे काम को बहुत ही सोच समझ कर करते है। 
 
इनका स्वभाव और व्यक्तित्व-

ज्योतिष के मुताबिक इस नक्षत्र के लोग सच्चे प्रेमी होते है। अगर के किसी के प्रेम करते है तो उसे जल्दी नहीं तोड़ते है और उसे निभाने के लिए कुछ भी करने को तैयार होते है। ये लोग अपनी दोस्ती के लिए बहुत ही वफादार होते है। कहते है कि इनका स्वभाव बहुत की चंचल होता हैं और साथ ही मन के बहुत शांत व धार्मिक स्वभाव के होते है। इन्हें  अपने हर कार्य क्षेत्र में सफलता तो मिलती है, लेकिन धन हानि का सामना करना पड़ता है। 

आर्थिक स्थिति-

इन नक्षत्र में जन्मे लोगों पर गुरूदेव बृहस्पति और शनि देव भगवान की कृपा हमेशा बनी रहती है जिस कारण से इन लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है। कहते है कि इन लोगों के आर्थिक तंगी का सामना बहुत ही कम करना पड़ा है, ना के बराबर ही।

किस क्षेत्र में सफलता पाते हैं-

कहते है कि इस नक्षत्र के लोगों अच्छे लेखक, सुंदर कवि, महान दार्शनिक और साहित्वकर बने के योग्य होते है। 

8वां नक्षत्र पुष्य होता है

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 27  नक्षत्र होते है और इनमें से पुष्य नक्षत्र 8वां नक्षत्र होता है।  इस नक्षत्र को बहुत ही शुभ और सभी नक्षत्रों का राजा कहां जाता है। इस नक्षत्र के स्वामी शनि भगवान और गुरुदेव बृहस्पति होते हैं। यह भी कहां जाता है कि अगर इस नक्षत्र में किया गया कोई भी कार्य हो उसमें सफलता जरूर मिलती है। ऐसा माना जाता है कि इस नक्षत्र में जन्मी महिलाएं धार्मिक विचारों और शांत मन की होती है और साथ ही ये दयावान होने के साथ-साथ हर तरह के काम को करने में अपनी रुचि दिखाती है। 
 
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X