Know How The Mathematics Of Planets Will End The Corona Outbreak - जानिए ग्रहों का गणित कैसे करेगा कोरोना के प्रकोप का अंत - Myjyotish News Live
myjyotish
हेल्पलाइन नंबर

9818015458

  • login

    Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Know how the mathematics of planets will end the corona outbreak

जानिए ग्रहों का गणित कैसे करेगा कोरोना के प्रकोप का अंत

My Jyotish Expert Updated 04 Apr 2020 04:44 PM IST
Know how the mathematics of planets will end the corona outbreak
विश्व में महामारी का रूप लेने वाले कोविड-19 का प्रकोप ग्रहों की टेढ़ी चाल का नतीजा है। इन दिनों पाप ग्रह राहु आर्द्रा नक्षत्र में संचार कर रहे हैं। राहु जब भी आर्द्रा नक्षत्र में संचार करता है तब विश्व में कोई न कोई बड़ी घटना, महामारी या आर्थिक स्थिति को धक्का लगता है। इससे पहले राहु के वर्ष अगस्त 2001 से लेकर अप्रैल 2002 तक आर्द्रा नक्षत्र में संचरण के दौरान अमेरिका में 9/11 जैसा आतंकी हमला और भारत में गोधरा कांड हुआ था।

ऐसे सुधरेगा गणित 

आर्द्रा नक्षत्र में राहु का संचरण काल 11 सितम्बर से 2019 से प्रारंभ होने के कुछ समय बाद से ही विश्व भर में इसका असर दिख रहा है। इसका प्रभाव विश्व में 22 मई 2020 तक रहेगा, लेकिन भारत के लोगों के लिए राहत की खबर है।  30 मार्च को भारत की कुंडली के भाग्य भाव यानी नवम भाव में गुरु बृहस्पति के आने से राहु ग्रह यानी कोरोना के असर से राहत महसूस होगी। इस महामारी पर जीत हासिल कर भारत सारी दुनिया के लिए आदर्श होगा।

ज्योतिष के हिसाब से कुछ यूं फैला कोरोना
राहु-शनि से प्रभावित- कोरोना वायरस का प्रभाव दिसम्बर 2019 से शरु हुआ और फरवरी 2020 तक इसने पूरी तरह जड़ें जमा लीं। राहु के साथ शनि के प्रभाव ने हवा को विषैला बनाया है। राहु का संबंध धुंआ और आसमान से है, जबकि शनि का हवा में पैदा हुए कण हैं। ऐसे में कोई भी वायरस तेजी से फैलता है। वर्तमान में राहु अपनी उच्च राशि मिथुन में गोचर कर रहे हैं, जो कि भारत की कुंडली का दूसरा और इंसान के मुख और नाक का भी दूसरा घर है। ग्रहों की स्थिति के चलते ही भारत में भी अचानक कोरोना का तेजी से फैलाव हुआ है।
 
 
विनाश के बाद निर्माण
27 नक्षत्रों में आर्द्रा नक्षत्र का भारतीय वैदिक ज्योतिष में काफी महत्व है। इस नक्षत्र के स्वामी रुद्र हैं। जब भी भगवान शिव रुद्र के रूप में परिवर्तित होते हैं तो बड़े पैमाने पर विनाश और संहार होता है। इसके बाद निर्माण की नई प्रक्रिया प्रारंभ होती है। भारत के लिए वर्ष 2020 आर्थिक तौर पर उतार-चढ़ाव भरा रहेगा पर 2021 बेहतर साबित होगा।
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X