myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Jyeshtha Purnima Upay :: Do these special remedies at night on Jyeshtha Purnima,

Jyeshtha Purnima Upay : ज्येष्ठ पूर्णिमा पर रात्रि समय जरूर करें ये खास उपाय  पूरी होगी मनोकामनाएं

Acharyaa RajRani Updated 21 Jun 2024 03:19 PM IST
ज्येष्ठ पूर्णिमा उपाय 
ज्येष्ठ पूर्णिमा उपाय  - फोटो : myjyotish

खास बातें

Jyestha Purnima  :  ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन किया जाने वाला धार्मिक कार्य एवं अनुष्ठान इत्यादि शुभ फल प्रदान करते हैं। इसी के साथ पूर्णिमा की रात्रि को भी बहुत विशेष माना गया है। आइये जान लेते हैं ज्येष्ठ पूर्णिमा की रात्रि समय किन कामों को करना होता है लाभदायक।
विज्ञापन
विज्ञापन
Jyestha Purnima  :  ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन किया जाने वाला धार्मिक कार्य एवं अनुष्ठान इत्यादि शुभ फल प्रदान करते हैं। इसी के साथ पूर्णिमा की रात्रि को भी बहुत विशेष माना गया है। आइये जान लेते हैं ज्येष्ठ पूर्णिमा की रात्रि समय किन कामों को करना होता है लाभदायक।
 
Jyestha Purnima Mantra:  हर माह शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि के अगले दिन पूर्णिमा मनाई जाती है। ऎसे में ज्येष्ठ माह में आने वाली पूर्णिमा तिथि के दिन किया जाने वाला मंत्र जाप एवं रात्रि जागरण देता है विशेष फल| पूर्णिमा उपायों के साथ ही ज्येष्ठ पूर्णिमा मंत्र जाप के साथ पूर्णिमा रात्रि उपासना होती है महत्वपूर्ण| 
 

ज्येष्ठ पूर्णिमा 2024 विशेष 

ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। पूर्णिमा की पूजा करने से भक्त को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। सनातन धर्म में पूर्णिमा तिथि चंद्रमा, श्री लक्ष्मी एवं पालनहार भगवान विष्णु को समर्पित है। इस दिन भगवान चंद्र की भी पूजा करना अत्यंत महत्व रखता है| शास्त्रों में ज्येष्ठ पूर्णिमा तिथि पर गंगा स्नान, पूजा, जप, तप और दान का विधान है। पूर्णिमा तिथि पर जल में गंगाजल मिलाकर स्नान-ध्यान करने और लक्ष्मी नारायण जी की विधि-विधान से पूजा करना उत्तम माना गया है| इसी के साथ इस रात्रि का भी महत्व विशेष रहा है जिसके द्वारा भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। साथ ही सभी बिगड़े काम भी बन जाते हैं। 
 

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर किए जाने वाले विशेष कार्य

ज्येष्ठ पूर्णिमा तिथि पर श्री सत्यनारायण देव की पूजा की जाती है| पूर्णिमा तिथि पर बड़ी संख्या में भक्त गंगा समेत पवित्र नदियों और सरोवरों में डुबकी लगाते हैं। इस दिन भगवान श्री हरि की पूजा के साथ ही विधि-विधान से अनुष्ठान किए जाते हैं| अगर आप भी ज्येष्ठ पूर्णिमा पर भगवान विष्णु को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो ज्येष्ठ पूर्णिमा पर पूजा के दौरान मंत्रों का जाप करना चाहिए| 
 

ज्येष्ठ पूर्णिमा उपाय 


ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन इन मंत्रों का जाप रात्रि समय करने से सुख धन लाभ की प्राप्ति होती है|पूर्णिमा के दिन ये खास मंत्र करने से मिलती है भगवान श्री हरि और मां लक्ष्मी की कृपा

ॐ श्री विष्णवे च विद्महे वासुदेवाय धीमहि।
तन्नो विष्णुः प्रचोदयात्।।

ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि,
तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ।।

पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के समय चंद्रमा को कच्चा दूध, चीनी और चावल मिलाकर अर्घ्य देना चाहिए। चंद्रमा कि पूजा करने से जीवन में मानसिक शांति एवं भौतिक सुख प्राप्त होते हैं|  


ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें- https://www.myjyotish.com/talk-to-astrologers
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X