Happy Janamashtami 2020 : Krishna Life Interesting Incidents All You Need To Know - Janamashtami 2020 : नन्दलाल गोपाल के जीवन से जुड़ी यह 3 रोचक घटनाएं नहीं जानते होंगे आप ! - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Happy Janamashtami 2020 : krishna life interesting incidents all you need to know

Janamashtami 2020 : नन्दलाल गोपाल के जीवन से जुड़ी यह 3 रोचक घटनाएं नहीं जानते होंगे आप !

Myjyotish Expert Updated 08 Aug 2020 10:25 AM IST
Janamashtami 2020
Janamashtami 2020 - फोटो : Myjyotish

Janamashtami 2020 : जन्माष्टमी का पर्व कृष्ण के जन्म के उत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष यह पर्व 12 अगस्त 2020, बुधवार को है। वृन्दावन, भारत की प्राचीन नगरियों में से एक है। यह स्थान श्री कृष्ण की जन्म एवं कर्म भूमि रही है। हिन्दू धर्म में इन स्थानों का बहुत महत्व रहा है। इन स्थानों से जुड़ी अनेकों कथाएं हैं जो श्री कृष्ण के पूजन के महत्व को दर्शाती हैं। मान्यताओं के अनुसार जो कोई भी व्यक्ति यहाँ श्री कृष्ण की आराधना करता है उसकी सभी इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं। जन्माष्टमी के अवसर पर यहाँ खूब धूम होती है। पूरे भारत में यह पर्व बहुत हर्ष के साथ मनाया जाता है और साथ ही दही - हांडी का आयोजन भी किया जाता है। 

जन्माष्टमी पर कराएं श्री कृष्ण का विशेष पूजन , होंगी समस्त अभिलाषाओं की पूर्ति 

प्रथम कथा : यह तो हम सभी जानते हैं की श्री कृष्ण की माता देवकी ने उन्हें जन्म दिया परन्तु आजीवन उनका पालन - पोषण यशोदा माता द्वारा किया गया था। कहा जाता है कि जब श्री कृष्ण का जन्म हुआ, उस रात बहुत बारिश हो रही थी। मथुरा की यमुना नदी अपने उफान पर थी। परन्तु नियति का खेल कुछ ऐसा हुआ की जेल के सभी संतरी माया के कारण गहरी नींद में सो गए। और वासुदेव जी ने उसी बारिश में कृष्ण जी को टोकरी में रखकर अपने मित्र नन्द के यहाँ ले जाने का निश्चय किया। जेल के दरवाजे भी स्वतः ही खुल गए। जब वह नन्हे कान्हा को लेकर यमुना के किनारे पहुंचे तो नदी ने कृष्ण जी के पैर छुए और दो हिस्सों में बट गयी। इस चमत्कार से वासुदेव शीघ्र ही नंद के घर पहुंचे और श्री कृष्ण को यशोदा मैया की गोद में छोड़कर वापस आ गए। 

द्वितीय कथा : जब श्री कृष्ण अपने बाल्यावस्था में थे, तब उन्होंने अपने मामा कंस द्वारा भेजे गए अनेकों राक्षसों का वध किया था। इन सभी राक्षसों में सर्व प्रथम पूतना थी जिसका वध श्री कृष्ण ने किया था। पूतना को उन्होंने अपने घर के निकट ही मारा था। यह बात उस समय की है जब श्री कृष्ण के मामा कंस को यह बात पता चल गई थी की वासुदेव द्वारा छलपूर्वक अपने पुत्र को सुरक्षित कही और भेज दिया गया है। यह जानते ही कंस ने उस समय जन्म लिए सभी बालकों का अंत करने का निर्णय किया था।

 कृष्णजन्माष्टमी पर द्वारकाधीश में तुलसी के पत्ते से कराएं विष्णुसहस्रनाम, होगी मनवांछित फल की प्राप्ति - 12 अगस्त 2020


तृतीया कथा : प्राचीन मान्यताओं के अनुसार श्री कृष्ण और राधा रानी वृंदावन में एक नदी के किनारे मिले थे। कृष्ण बचपन से ही बहुत नटखट थे , वह सभी गोपियों को परेशान किया करते थे। उन्हें माखन बहुत पसंद था और वह सभी के घरों में से माखन चुरा - चुराकर खाते थे। इस स्थान पर श्री कृष्ण एवं राधा रानी अपने अन्य सखी - सखा के साथ तीज - त्योहारों पर नृत्य किया करते थे। मान्यताओं के अनुसार आज ही श्री कृष्ण यहाँ राधा रानी के नृत्य करने पधारतें है। वृन्दावन एवं मथुरा से जुड़ी बहुत सी कहानियां है जो कृष्ण के होने का वास्तविक साक्श प्रदान करती है। कहा जाता है की जन्माष्टमी के दिन वृन्दावन में कृष्ण का अभिषेक एवं भोग कराने से भक्तों की समस्त इच्छाएं पूर्ण हो जाती है। 
 

यह भी पढ़े :-

वित्तीय समस्याओं को दूर करने के लिए ज्योतिष उपाय

अपनी राशिनुसार जाने सबसे उपयुक्त निवेश

ज्योतिष किस प्रकार आपकी सहायता करने योग्य है ?




 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X