myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Interesting things about Rakshabandhan

क्या आप भी जानना चाहेंगे ऐसी क्या खास बात है रक्षाबंधन में तो चले आपको बताते हैं ऐसी रोचक बातें रक्षाबंधन की

My Jyotish Expert Updated 11 Aug 2021 09:44 PM IST
रोचक बातें रक्षाबंधन की
रोचक बातें रक्षाबंधन की - फोटो : Google
हर साल श्रावण के महीने में जो पूर्णिमा पड़ती है कब मनाया जाता है रक्षाबंधन का त्यौहार जिसकी सब जानते हैं रक्षाबंधन का त्यौहार हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है और इस त्यौहार को हर व्यक्ति मनाता है और वैसे ही हर बहन अपने भाई की कलाई में राखी बांधकर इस त्यौहार का मतलब बताती है. 22 अगस्त 2021 यानी रविवार को पड़ने वाला है रक्षाबंधन का त्योहार तो चलिए जानते हैं रक्षाबंधन से जुड़े कुछ बातें कि क्यों मनाया जाता है रक्षाबंधन और कैसे. सबसे पहला तो यह कि राखी को रक्षा सूत्र कहा जाता था पहले वह तो अब राखी बोलने लग गए पर पहले संस्कृत शब्द रक्षिका के नाम से राशि रखा गया था यानी रक्षा का बंधन. रक्षाबंधन बहुत पहले से ही मनाया चला आ रहा है और अब तक लोग इस त्योहार को मनाते हैं और इस हार को बहुत पवित्र भी माना जाता है यह परंपरा बहुत पहले से चली आ रही है पर पहले बहनें अपने भाइयों की कलाई में नाड़ा भांग पी थी या कोई धागा बांध देती थी क्योंकि वैदिक काल में यही धार्मिक परंपरा माना जाता था. आगे जानते हैं और भी बहुत सी ऐसी बातें जो आपको रक्षाबंधन के बारे में शायद ना पता हो.

जानिए शुक्र के राशि परिवर्तन से किन राशियों पर होगा प्रभाव

वहीं से शुरू हुआ और आगे चलते चलते वैवाहिक औरतें अपने पति को और तो और मां अपने बेटे को या भाई अपनी बहनों को प्यार जताने के लिए यह त्यौहार मनाते थे और तभी से इस त्यौहार को प्यार का प्रतीक त्योहार के नाम से जाना जाता है पर यह त्यौहार बहनों के लिए बहुत खास माना जाता है चाहे वह दवा ही मानते हैं कि क्यों ना हो वह अपने भाई को अपने घर बुलाकर उसे जरूर राखी बांधी है और भाई अपनी बहन को प्यार के नाम भी उपहार देता है और उसी तरह बहन अपने भाई को राखी बांधी है और इस त्यौहार का समापन होता है.

के धागे की राखी तो अब बांधी जाती है पर क्या आप यह जानते हैं कि पहले कैसे हो और क्या माना जाता था. पहले एक सूत का धागा होता था जो बहन अपने भाई की कलाई में बांधती थी फिर धीरे धीरे चलते चलते मैं भागा एक ही नाडा के रूप में बदलाव और नाडा बांधने लग गए और फिर उसके बाद ही पक्के भागों का इस्तेमाल कर आ गया और उसमें अच्छे अच्छे सुंदर फूल चिपकाकर उसे राखी के रूप में जाना जाता है अब तो राखी के भी कई रूप आने लगे हैं चाहे वह सस्ती हो या महंगी से महंगी राखी क्यों ना हो वह एक रंगीन कलावा हो या एक अच्छे धागे से बंद कर राखी बनाते हैं और तो और अब सोने और चांदी की भी राखी बनने लगी है.
ऐसा कहा जाता है कि जब देव और असुरों की लड़ाई होती थी तब असुर देवो पर भारी पड़ने लग गए थे तब भी जब देव राय हारने लग गए हो देवेंद्र इंद्र घबरा गए और महर्षि बृहस्पति के पास तुरंत चले गए और सभी बृहस्पति ने सुझाव दीया और इंद्राणी यानी इंद्र की जो तस्वीर है उन्होंने धागा लेकर अपनी शक्ति का मंत्र करते हुए अपने पति के हाथ पर बांध दिया और वह दिन श्रावण पूर्णिमा का दिन था इसीलिए कहा जाता है कि तब से ही पत्नियां अपने पति को राखी बांधने लगी.
सावन प्रदोष को विशेष योग में कराएँ विशेष नवग्रह पूजन, ऑनलाइन पूजा बुक करें

इसके अलावा यह भी माना जाता है कि सिरोही की रक्षा भी एक बार श्री कृष्ण ने करी थी और वह भी इस त्यौहार से कुछ जुड़ा है. एक बार श्री कृष्ण भगवान को हाथ में बहुत ज्यादा चोट लग गई थी कि उनके हाथ पर खून बह रहा था और जब द्रोपती ने उन्हें देखा तो उनसे देखा नहीं जा रहा था उन्होंने एकदम से अपनी साड़ी का पल्लू पाड़ा और भगवान श्री कृष्ण के हाथ में कसकर बांध दिया ताकि खून बहना बंद हो जाए थोड़ी देर रुक कर जब द्रोपदी ने चीर हरण किया तभी भगवान श्री कृष्ण ने तीर को बढ़ाकर इस बंधन के नाते दो उनका उपकार चुकाया और तभी से यह एक रक्षा का बंधन मानते हुए रक्षाबंधन माना जाता है . 
यैं बद्धो बलि राजा दान्वेंद्रो महाबालह तें त्वा अभीबंधामि रक्षे मा चल मा चल! यह मंत्र पढ़ना जरूरी है जब भी आप अपने भाई को राखी बांध रही हो तो और अगर कोई भी शिष्य अपने गुरु को बांध रही है तो वह इस मंत्र का प्रयास करें यें बद्धो बलि राजा दान्वेंद्रो महाबालह तें त्वा रक्शबंधमि रक्षे मा चल मा चल! 
दरिद्रता से मुक्ति के लिए ज़रूरी है अपने ग्रह-नक्षत्रों की जानकारी, देखिए अपनी जन्म कुंडली मुफ़्त में

साथ ही साथ यह भी कहा गया है जब भगवान कृष्ण के पास युधिस्टर आए और उनसे पूछा कि भगवान मैं कैसे हर संकटों से दूर हो सकता हूं कैसे मेरी परेशानियों का हल निकल सकता है तो उनकी बात सुनकर श्री कृष्ण ने उनको बोला कि राखी का त्यौहार रक्षा के लिए जरूर मनाओ.


यह भी  पढ़े-
Rakshabandhan 2021 : इस रक्षाबंधन भाई की राखी खरीदने से पहले जानें ये बातें, बदल सकता है भाई का जीवन
जीवन के कुछ ऐसे संकेत, जो बताते हैं बन रहे धन प्राप्ति के योग
हस्तरेखा ज्योतिषी से जानिए क्या कहती हैं आपके हाथ की रेखाएँ

 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X