Brahmamuhurtha Importance: Know The Important Place Of Brahma Muhurta In Hindu Scripture - Brahma Muhurt: जाने हिन्दू शास्त्र में ब्रह्म मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Brahmamuhurtha Importance: Know the important place of Brahma Muhurta in Hindu scripture

Brahma muhurt: जाने हिन्दू शास्त्र में ब्रह्म मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान

Myjyotish Expert Updated 23 Jul 2020 03:03 PM IST
ब्रह्म मुहूर्त
ब्रह्म मुहूर्त - फोटो : Myjyotish

ब्रह्म मुहूर्त दो मुहूर्तों की अवधि है, यह  भोर से लगभग डेढ़ घंटे पहले का समय होता है । वैदिक परंपरा में इस अवधि को प्रार्थना और ध्यान जैसी आध्यात्मिक प्रथाओं के लिए आदर्श समय माना जाता है। ब्रह्म मुहूर्त के दौरान जागने से कई स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं। आयुर्वेदिक पाठ्यपुस्तक में लिखा गया पहला वचन स्वास्थ्य और लंबे जीवन के लिए दैनिक आहार के बारे में बताते हुए ब्रह्म मुहूर्त के महत्व को दर्शाता है।

सावन माह में बुक करें शिव का रुद्राभिषेक , होंगी समस्त विपदाएं दूर 

सूर्योदय से लगभग डेढ़ घंटे पहले, ऊर्जा में एक विशेष बदलाव अंतरिक्ष को अनोखा दृश्य प्रदान करता है। आशा, प्रेरणा और शांति इस समय प्रकट होती है। यह समय भ्रामर ज्ञान, परम ज्ञान और अनन्त सुख की प्राप्ति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। इस समय, वातावरण शुद्ध और सुखदायक होता है साथ ही नींद के बाद दिमाग ताज़ा रहता है। इस समय में ध्यान लगाने से मानसिक प्रदर्शन में सुधार होता है और यह मानसिक जलन या अति सक्रियता और सुस्ती को दूर करने में मदद करता है।

इस समय, प्राण का एक उच्च स्तर (महत्वपूर्ण जीवन ऊर्जा) जो शरीर के लिए आवश्यक है, वातावरण में पर्याप्त रूप से मौजूद होता है। प्रदूषण अपने न्यूनतम स्तर पर होता है। हंसमुख वातावरण का शरीर और मन पर काफी प्रभाव पड़ता है। संस्कृत में, दैनिक दिनचर्या को दीनाचार्य कहा जाता है। ‘दीन’ का अर्थ है दिन ’और‘ आचार्य ’का अर्थ है 'पालन करना’। इसलिए, दीनाचार्य प्रकृति के चक्र को ध्यान में रखते हुए एक आदर्श दैनिक कार्यक्रम है।

काल सर्प दोष पूजा - नागवासुकि मंदिर , प्रयागराज

आयुर्वेद ने दैनिक दिनचर्या को एक गहरी सोच दी है, जिसका अनुसरण करते हुए हमारी अधिकतम  क्षमताओं को व्यक्त करने के लिए हमारे दिन को पूरी तरह से संरेखित किया जाता है। यह सुबह उठने के साथ शुरू होता है। हमारे जागने की गुणवत्ता दिन के लिए ऊर्जा का स्तर तय करती है। एक शांतिपूर्ण नई शुरुआत हमेशा सुस्त रहने के लिए बेहतर होती है, सुस्ती एक भारी एहसास के साथ शुरू होती है। वैज्ञानिक अनुसंधानों ने निर्धारित किया है कि ब्रह्ममुहूर्त में, वायुमंडल में ऑक्सीजन का स्तर सबसे अधिक (41%) होता  है, जो की फेफड़ों के लिए फायदेमंद है। इस मुहूर्त में ईश्वर की आराधना भी बहुत फलदायी होती है।

यह भी पढ़े :-


Kaal Sarp Dosh - यदि आप या आपके परिवार का कोई सदस्य है काल सर्प दोष से परेशान, तो जरूर पढ़ें !

साढ़े - साती के प्रकोप से बचाव हेतु सावन में करें यह सरल उपाय

Sawan 2020: जाने सावन माह से जुड़ी यह 3 मान्यताएं

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X