myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   how to please shiv ji by nag pooja , nag panchami shiv puja vidhi mahatav

Nag Panchami 2021: जानें नाग पंचमी पर कैसे करें महादेव को प्रसन्न, पूजा विधि व महत्व

my jyotish expert Updated 12 Aug 2021 05:49 PM IST
नाग पंचमी 2021
नाग पंचमी 2021 - फोटो : google
जानें नाग पंचमी पूजा विधि व महत्व - नाग पंचमी इस बार 13 अगस्त को शुक्रवार के दिन पड़ने वाली है ऐसा कहा जाता है कि भारत के दर्शन अपने सभी प्राणों से परमात्मा का दर्शन करते हैं और साथ ही साथ उनमें एकता का अनुभव भी करते हैं। क्योंकि ऐसा कहा जाता है श्रावण मास भगवान शिव का महीना होता है और यह महीना सिर्फ के भक्त शिव की भक्ति में निकाल देते हैं और यह भी बताया गया है कि इस महीने भगवान शिव अपने भक्तों से बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी सारी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। उसी तरह नाग पंचमी को भी श्रावण मास में पूजा जाता है । जैसा कि हम जानते हैं भगवान शिव के गले में नागराज वासुकी विराजमान रहते हैं। नागों के 12 दिन होते हैं - अनंत, वासु की, शेष, कंबल, कर्कोटक, अक्ष्वतार, शंखपाल, धृतराष्ट्र, तक्षक, कालीय और पिंगल। यह है 12 नग शिव की पूजा करने से बहुत फल मिलता है और ऐसा कहा जाता है कि साल के पहले 12 महीने में इन नागो में से एक एक नाग की पूजा महीने में करनी चाहिए। क्योंकि ऐसा कहा गया है कि अगर आप नागौ की पूजा करते हैं आपको धर्म से संबंधित जो भी परेशानी है वह जल्द से खत्म हो जाएगी।
 

नाग पंचमी का महत्व व पूजा विधि -

नाग पंचमी पर नागों की पूजा करने से आपको संतान की प्राप्ति भी हो सकती है और अगर आप यह जाप रोज करते हैं तो आपको यह बहुत लाभदायक होने वाली है तो जाप  यह है कि ऊँ कुरुकुल्ये हुं फट स्वाहा। अगर आप यह जाप रोज पढ़ते हैं तो वह बहुत शुभ माना जाता है। अगर आप राहु या केतु की बुरी दशा से गुजर रहे हैं तो यह पूजा या यह मंत्र आपको बहुत फल देगी और साथ ही साथ आपके सारे दुख दूर कर देगी।
 

चलिए जानते हैं किस ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है कौन सा नाग

तो इसका उत्तर है कि सूर्य का प्रतिनिधित्व अनंतनाग करता है और उसी तरह चंद्रमा का वासुकी और भोम का रक्षक करता है  और तो और बुध का करता है कर कोटक. चलिए जानते हैं नाग पंचमी की पूजा कैसे करते हैं ऐसा माना गया है कि इस दिन आपका जो घर का दरवाजा है उसके दोनों तरफ उनको बस से नाग का चित्र बना देते हैं और उस समय उनकी कथा पढ़ी जाती है और पूजा भी उसी समय करी जाती है. नाग पंचमी की कथा यह है कि एक बार मणिपुर में एक किसान रहता था उसने एक बार 3 नागिन के बच्चों को गलती से मार दिया था और उनके फोन चले गए थे उसी समय नागिन उस किसान मैं उसके सारे परिवार को ढक लिया था पर आखिर में उसकी एक पुत्री बची थी जब नागिन उस पुत्री को ढकने जा रही थी तो कुछ कन्या ने नागिन को एक दूध का कटोरा दिया जिससे वह नागिन खुश हुआ और उस कन्या भी दया खाकर उसने यह निर्णय लिया कि उसे माफ किया जाए तो इसीलिए उस नागिन में कन्या को  छोड़ दिया और साथ ही साथ उसके सारे परिवार को पुनर्जीवित भी कर दिया और तब ही से  नाग पंचमी को इतना और पवित्र माना जाता है हिंदू धर्म में और उस समय वह नागों की सुरक्षा के लिए आशीर्वाद भी देती थी तो नाग पंचमी का दिन नागों की सुरक्षा के लिए भी माना जाता है तो इसी तरह तब से अब तक  नाग पंचमी  का कितना महत्व है और इसे अब ही मनाया जाता है।

आपके स्वभाव से लेकर भविष्य तक का हाल बताएगी आपकी जन्म कुंडली, देखिए यहाँ
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X