myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Holi mythological significance story

होली से जुड़ी ये विशेष पौराणिक कथा नहीं जानते होंगे आप !

Myjyotish Expert Updated 24 Mar 2021 03:58 PM IST
Holi ka mahatva
Holi ka mahatva - फोटो : Myjyotish

हमारे हिन्दी साहित्य में महाकाव्य और खण्ड काव्य है जिसमें महाकाव्य का सर्व श्रेष्ठ उदाहरण रामचरितमानस है जिसे तुलसीदास ने लिखा है वैसे ही हमारे हिन्दी साहित्य में पुराण है जिसमें शिव पुराण, विष्णु पुराण प्रमुख है ।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


विष्णु पुराण में होली की कथा है कि आखिर किस कारण होलिका दहन किया जाता है और होली खेलने का क्या महत्व है ।आज हम होली की कथा को जानेगे विष्णु पुराण के अनुसार एक हिरण्यकश्यप  नाम का राजा था जिसे भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न करके ये वरदान पा लिया था कि न तो उसे कोई स्त्री मार सकती है और  न  ही कोई पुरुष जिसके कारण वो अपने आप को भगवान मानने लगा था ।

  कुछ समय बाद हिरण्यकश्यप को एक पुत्र की प्राप्ति होती है जो शुक्ल पक्ष की भांति बढ़ने लगता है जो विद्या अर्जन करने समय से ही भगवान विष्णु को अपना देवता मानने लगता है और उनकी पूजा अर्चना करता है वहीं दूसरी ओर उसका अंहकारी पिता हिरण्यकश्यप प्रहलाद को बहुत समझाता है किन्तु वो अपने पिता की बात नहीं मानता जिसे  क्रोधित होकर हिरण्यकश्यप प्रहलाद को मारने  के कई प्रयत्न करता है किन्तु भगवान विष्णु की कृपा से प्रहलाद का बाल भी बांका नहीं होता है ।

होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता में कालीघाट स्थित काली मंदिर में पूजा - 28 मार्च 2021
 
तब हिरण्यकश्यप की बहन होलिका जिसे भगवान ब्रह्मा से ये वरदान प्राप्त है कि अग्नि उसे छु भी नहीं पाएगी वो अपने भाई को ये सुझाव देती है कि फाल्गुन की पूर्णिमा को में प्रहलाद को अग्नि में लेकर बैठुगी  मुझे वरदान प्राप्त है योजना अनुसार सभी कार्य विधि पूर्वक होता है परन्तु भगवान विष्णु की कृपा से प्रहलाद को अग्नि स्पर्श भी नहीं कर पाती और होलिका का वरदान अभिशाप में बदल जाता है और वो अग्नि में भस्म हो जाती है ।

 भगवान विष्णु नरसिंह अवतार लेकर हिरण्यकश्यप का वध करते हैं और तब से भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार की पूजा अर्चना की जाती है ।आज हम इसे होली के रूप में मनाते है जो बुराई पर अच्छाई की जीत का संकेत देता है ।फाल्गुन माह की पूर्णिमा के दिन होलिका दहन किया जाता है और उसके दूसरे दिन होली खेली जाती है ।

ये भी पढ़ें : -

जानें होली में राशि के अनुसार कैसे करें उपाय होगी परेशानी दूर

अपनी राशि के अनुसार जानें कैसे करें होलिका पूजन

क्या है लड्डू और लठमार होली ? जानें किस दिन होगी कौन सी होली ?

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X