myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Goga dev goga navmi significance puja vidhi

Goga navami 2021: जानें गोगादेव के बारे में ,कब मनायी जायेगी गोगा नवमी इसके महत्व व पूजा विधि

my jyotish expert Updated 29 Aug 2021 08:32 PM IST
goga navmi 2021
goga navmi 2021 - फोटो : google
गोगा जिसे गुग्गा नवमी के भी नाम ये जाना जाता है ये हिंदी महीने के अनुसार  भाद्रपद यानि अगस्त से सितंबर के बीच  में श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दूसरे दिन मनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि गोगदेव सर्प के देवता है जो सापो से जीवन की रक्षा करते हैं। इसमें नाग देवता की भी पूजा की जाती है।  गोगा जी राजस्थान के लोक देवता हैं। जिन्हें 'जहरवीर गोगा जी' के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन श्री जहरवीर गोगाजी की जयंती बड़े धूम धाम व उत्साह के साथ मनाई जाती है। गोगामेड़ी राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले का एक कस्बा है  यहां भादों शुक्ल पक्ष की नवमी को गोगाजी देवता का मेला लगता है बात करे इस साल की तो गोगा नवमी 31 अगस्त को मनाई जायेगी । राजस्थान के अलावा पंजाब और हरियाणा समेत हिमाचल प्रदेश के कुछ इलाकों में भी यह त्योहार बड़ी श्रद्धा और आस्था के साथ मनाया जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार गोगा जी महाराज की पूजा करने से सर्पदंश का खतरा नहीं होता है। गोगा देवता को नागों का देवता माना जाता है। इसलिए इस दिन नागों की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि पूजा स्थल की मिट्टी को घर में रखने से सांपों के भय से मुक्ति मिलती है।

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण


● गोगा नवमी के महत्त्व : 


गोगा नवमी मनाने वालों के अनुसार गोगा जी महाराज अलौकिक शक्तियों वाले राजपूत योद्धा थे। ऐसा कहा जाता है कि उनका जन्म गोरखनाथ के आशीर्वाद से हुआ था जिन्होंने अपनी मां बछल देवी को गुग्गल नाम का फल दिया था। वह बड़े से बड़े सांप को भी सहजता से वश में कर लेता था। यह भी कहा जाता है कि वह सांप के काटने का इलाज कर सकता था और लोगों को मौत से बचा सकता था। लोग उनकी चमत्कारी शक्तियों के लिए उनकी जय-जयकार करते हैं और इसलिए उनकी पूजा करने से लोगों का मानना है कि उन्हें कभी भी सांपों से किसी भी तरह का खतरा नहीं होगा। इसके अलावा, निःसंतान दंपत्ति उनकी पूजा करते हैं और इस दिन व्रत रखते हैं, जबकि जिनके बच्चे हैं वे अपने बच्चों की रक्षा के लिए उनसे आशीर्वाद मांगते हैं। कहा जाता है कि गोगा जी महाराज बच्चों को संकटों से बचाते हैं।

इस दिन की रस्में गुगा को समर्पित हैं - एक पवित्र व्यक्ति जिसके पास सांपों द्वारा काटे गए लोगों को ठीक करने की शक्ति थी।

एक लोकप्रिय धारणा है कि बच्चों की रक्षा गूगा द्वारा की जाएगी। इसलिए विवाहित महिलाएं इस दिन अपने बच्चों की लंबी उम्र और स्वास्थ्य के लिए पूजा-पाठ करती हैं।

जो विवाहित महिलाये संतान सुख से वंचित है वो संतान की  प्राप्ति के लिए प्रार्थना करती हैं।

● गोगादेव पूजा का विधान

इस दिन दीवार पर गेरू से पीसकर दूध में कोयला पीसकर चकोर घर बनाकर उसमें पांच सर्व करते हैं। इसके बाद इन सांपों को जल, कच्चा दूध, रोली-चावल, बाजरा, आटा, घी, चीनी का भोग लगाना चाहिए और पुजारी को भिक्षा देनी चाहिए।

गुगा मारी मंदिरों में इस दिन विभिन्न पूजा और जुलूस का आयोजन किया जाता है। गोगा नवमी पर, हिंदू भक्त किसी भी चोट या क्षति से सुरक्षा के आश्वासन के रूप में भगवान गोगा जी को रक्षा स्तोत्र भी बांधते हैं।

इस व्रत को करने वाली महिलाएं सौभाग्यशाली होती हैं। पति विपत्ति से सुरक्षित रहता है और मनोकामना पूर्ण होती है। बही भाइयों को टीका लगाती है और मिठाई खिलाती है। बडेल में भाई सत्ता में बैठी बहनों को पैसा देते हैं।


● ऐसे करे गोगादेव की पूजा 

नवमी के दिन स्नान करने के बाद या तो घर में गोगा देव की मिट्टी की मूर्ति लाकर या घोड़े पर सवार वीर गोगा जी के चित्र को रोली, चावल, फूल, गंगाजल आदि से पूजना चाहिए.

गोगा जी को खीर, चूरमा, पकौड़ी आदि चढ़ाएं।

गोगा जी की कथा सुनकर भक्त नागदेवता की पूजा करते हैं। कहीं-कहीं सर्प की बांबी की भी पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि जो कोई भी सच्चे मन से नागों के देवता की पूजा करता है, गोगा जी महाराज। उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होने दें।

 जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी का माखन मिश्री भोग
 जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी की पीताम्बरी पोशाक सेवा
जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X