Goddess Skandamata Gives Education To Live With Concentration - देवी स्कंदमाता देती हैं एकाग्रता से रहने की शिक्षा - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Goddess Skandamata gives education to live with concentration

देवी स्कंदमाता देती हैं एकाग्रता से रहने की शिक्षा

My Jyotish Expert Updated 29 Mar 2020 06:48 AM IST
Goddess Skandamata gives education to live with concentration
माँ स्कंदमाता, देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों में से पांचवा स्वरूप हैं। नवरात्रि के पांचवे दिन देवी स्कंदमाता की आराधना की जाती है। स्कंदमाता पहाड़ों पर निवास करती हैं। कहते हैं की वह सांसारिक जीवों में नवचेतना का निर्माण करती हैं। कथन के अनुसार देवी स्कंदमाता की आराधना करने से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है। माँ स्कंदमाता की उपासना से भक्तों की सभी इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा इस लोक में उन्हें परम शांति और सुख का बोध होने लगता है।

स्कंद का संदर्भ यहां कार्तिकेय जी से किया गया है ,उनकी माता होने के कारण ही देवी को स्कंदमाता कहा जाता है। अपने स्वरूप में देवी ने एक हाथ में  स्कंद अर्थात कार्तिकेय को अपनी गोद में पकड़ा है तथा उनके दूसरे हाथ में कमल का पुष्प है तथा अन्य दो भुजाओं में एक में कमल का पुष्प व एक में वरदमुद्रा धारण किए हुए हैं। मान्यताओं के अनुसार देवी की पूजा करने भर से स्कन्द अर्थात कार्तिकेय भी प्रसन्न हो जाते हैं। इसलिए साधकों को देवी की उपासना का खास ध्यान रखना चाहिए। 

नवरात्रि पर विंध्याचल में कराएं दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ पाएं अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य

देवी, कमल के आसन पर विराजमान होती हैं जिस कारण इन्हे पद्मासना भी कहा जाता है। माँ स्कंदमाता सिंह पर सवार होती हैं। इनकी आराधना से भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। सूर्यमण्डल की अधिष्ठत्री होने के कारण इनके उपासक आलौकिक तेज तथा कांतिमय हो जाते हैं। अगर सच्चे मन से देवी की आराधना की जाए तो देवी के भक्तों को सफलता प्राप्त करने से कभी कोई रोक नहीं सकता।
देवी की आराधना से मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं। देवी को बड़े -बड़े विद्यावानों तथा सेवकों की जन्मदात्री माना गया है। इन्हे चेतना का निर्माण करने वाली देवी भी कहा गया है। कथन के अनुसार कालिदास द्वारा रचित रघुवंशम महाकाव्य एवं मेघदूत रचनाएं स्कंदमाता की कृपा से ही संभव हुईं। माँ की पूजा अर्चना करने वाले को कभी किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।सभी को एकाग्रभाव से मन को पवित्र रखकर माँ की शरण में आने का प्रयत्न करना चाहिए। ऐसा करने से माँ की कृपा सदैव उनपर बनी रहेगी।

यह भी पढ़े

जानिए क्या है दुर्गा शप्तचंडी पाठ के चमत्कारी फायदे

देवी कूष्मांडा की पूजा से होती है अखंड सौभाग्य की प्राप्ति

चैत्र नवरात्रि के अवसर पर जानिए गुप्त नवरात्रि का महत्व

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X