myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Chandra kalank chaturthi vrat katha significance

जानें चंद्र कलंक चतुर्थी पर क्या क्या करना होता है निषेध और इसकी पौराणिक कथा

ज्योतिषाचार्य राज रानी Updated 10 Sep 2021 07:03 PM IST
कलंक चतुर्थी
कलंक चतुर्थी - फोटो : google
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को, कलंक चतुर्थी, पत्थर चौथ व गणेश चतुर्थी नामों से मनाया जाता है. विभिन्न नामों से मनाए जाने वाले इस दिन की महिमा बहुत ही उत्तम फलों को देने वाली होती है. इस दिन श्री गणेश जी का पूजन किया जाता है, व्रत रखा जाता है और देश भर में इस अवसर पर मांगलिक कार्यों का आयोजन भी किया जाता है. देश के विभिन धर्म स्थलों पर भक्तों की भारी भीड़ इस शुभ दिन पर देखने को मिलती है. इस साल गणेश चतुर्थी 10 सितंबर 2021 को मनाई जाएगी. मान्यताओं के अनुसार यह दिन भगवान गणेश के जन्म से जुड़ा है. इसलिए भगवान गणेश को यह दिन अत्यंत प्रिय है और इसी कारण चतुर्थी शब्द को गणेश जी से जोड़ा गया है. ज्योतिष शास्त्र में भी भगवान गणेश को चतुर्थी तिथि का स्वामी माना जाता है. 

काशी दुर्ग विनायक मंदिर में पाँच ब्राह्मणों द्वारा विनायक चतुर्थी पर कराएँ 108 अथर्वशीर्ष पाठ और दूर्बा सहस्त्रार्चन, बरसेगी गणपति की कृपा ही कृपा -10 सितम्बर, 2021

चंद्र दर्शन होता है निषेध 

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को चंद्रमा देखना अशुभ माना जाता है. इस चतुर्थी को कलंक चौथ के नाम से भी जाना जाता है, अपने नाम अनुसार ही यह चंद्रमा को देखने के कारण अपमान और मिथ्या कलंक को देने वाली भी होती है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा को देखने के कारण भगवान कृष्ण को भी कलंक का श्राप झेलना पड़ा था. इस दिन भगवान गणेश की पूजा की जाती है. भगवान के जन्मोत्सव के लिए अनेकों तैयारियां होती है. इस शुभ दिन भक्त प्रात:काल समय उठकर स्नान करते हैं इस दिन गंगा स्नान इत्यादि का भी बहुत महत्व है. भगवान जी को सिंदूर अर्पित करना शुभ होता है, संध्या समय चंद्रमा के  बिना देखे जल अर्पित किया जाता है और तभी पूजा संपूर्ण होती है. 

कलंक चौथ की पौराणिक कथा 

द्वारकापुरी में सत्रजीत नाम का शख्स रहता है. वह भगवान सूर्य के प्रति अत्यंत समर्पित था,  भगवान सूर्य उनकी भक्ति से प्रभावित हुए और उन्हें एक अमूल्य मणि प्रदान करते हैं. इस मणि के प्रभाव के कारण, सत्रजित किसी भी चीज से नहीं डरते थे और सभी सुखों को प्राप्त करने में सक्षम होते हैं. एक बार भगवान श्रीकृष्ण ने राजा उग्रसेन को वो मणि प्रदान करने की बात सोचते हैं लेकिन सत्राजित इस बात को जान कर उस मणि को अपने भाई प्रसेन को दे देता है. एक समय प्रसेन वन में शिकार करने जाते हैं तो वहां शेर के प्रहार से उनकी मृत्यु हो जाती है  उसी  शेर से वो मणि जांबवंत प्राप्त करते हैं जब लोगों को मणि के खोने का पता चलता है तो वह कृष्ण को प्रसेन का हत्यारा समझ बैठते हैं यह बात जब श्री कृष्ण को पता चलती है तो वह श्रीकृष्ण इस मिथ्या कलंक को दूर करने के लिए प्रसेन की तलाश में निकल जाते हैं. भगवान कृष्ण को प्रसेन का शव, एक शेर का सिर और पैरों के निशान मिलते हैं  वही उनकी मुलाकात जाम्बवंत से होती है, जाम्बवंत सारी कहानी श्री कृष्ण को कह सुनाते हैं और अपनी पुत्री से विवाह पश्चात उन्हें वो मणि वापस कर देते हैं .जब प्रजा को सच्चाई का पता चलता है तो वह क्षमा मांगती है. माना जाता है की कृष्ण को ये दोष इस कारण सहना पड़ा क्योंकि उन्होंने भादो माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के चंद्रमा को देखा था.

ललिता सप्तमी को ललिता सहस्त्रनाम स्तोत्र के पाठ से लक्ष्मी माँ की बरसेगी अपार कृपा, - 13 सितम्बर, 2021
गणपति स्थापना और विसर्जन पूजा : 10 से 19 सितंबर
माँ ललिता धन, ऐश्वर्य व्  भोग की देवी हैं - करायें ललिता सहस्त्रनाम स्तोत्र, फ्री, अभी रजिस्टर करें
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X