myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Chaitra chathh 2021 : nhaye khaye Pooja significance rules and regulations

नहाये - खाये के साथ शुरूआत हुई चैत्र छठ की, जानें इसका महत्व और व्रत के नियम

Myjyotish Expert Updated 16 Apr 2021 06:12 PM IST
Chathh Pooja
Chathh Pooja - फोटो : Myjyotish

छठ पूजा को बिहार में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन अब यह त्योहार बिहार ही नहीं बल्कि पूरे देश विदेश में भी मनाया जाता है। छठ पूजा में लोगों की बहुत ही मान्यता होती है। इस में सूर्य देव की उपासना की जाती है।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


हर साल छठ पूजा  को दो बार मनाया जाता है। एक चैत्र के महीने में जब नवरात्रि का महत्व होता है और दूसरी बार कार्तिक के महीने में यानी की अक्टूबर-नवंबर दीवासी के छह दिन बाद  मनाया जाता है।
 
शास्त्रों के अनुसार,  छठी मईया सूर्य देव की बहन है इसलिए माना जाता है कि सूर्य देव की उपासना करने से छठी मैया प्रसन्न होती है और इस दौरान सूर्य भगवान को अर्घ्य देने से घर में सुख-शांति और आर्थिक संपन्नता आती है।  

चैत्र छठ महापर्व  16 अप्रैल यानी  कि आज शुक्रवार से शुरू हो गई है। जोकि चार दिनों तक चलने वाली छठ पूजा है जिसमें लोग चतुर्थी तिथि से नहाय खाय के साथ मनाया जाता है।
 
चैत्र महीने में छठ पूजा-

नहाया-खाया 16 अप्रैल को-  इस दिन लोग अपने घरों में साफ-सफाई करते है और  शुद्ध जल से नहा के व्रत का संकल्प करते है। जो इस दिन व्रत रखता है वह चावल, चने की दाल और लौकी की सब्जी खाते है। इसी के साथ इस दिन को नहाया खाया कहां जाता है।

इस नवरात्रि कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन : 13 से 21 अप्रैल 2021 - Kamakhya Bagalamukhi Kavach Paath Online
 
 खरना 17 अप्रैल को - इस दिन महिलाएं सुबह से लेकर शाम तक निर्जला व्रत रखते है और फिर शाम में मिट्टी के चूल्हे पर बनी दूध और गुड़ से बनी खीर बनाकर, भगवान को भोग लगाते है और उसके बाद खुद खाते है। चांद नजर आने तक पानी पीते है और फिर 36 घंटे तक निर्जला व्रत शुरू हो जाता है।
 
अर्घ्य 18 अप्रैल शाम को - जब  शाम को सूर्य देव अस्त  हो रहे होते है, तब अर्घ्य सूर्य को दिया जाता है। नदी या तालाबों के किनारे जाकर सूर्य को अर्घ्य देते है। लेकिन इस साल कोरोने महामारी के कारण देश में पाबंदिया लगा दी गई है जिससे लोगों को घाट पर जाने से रोका जा सके और कोरोना को भी फैलने से रोका जा सकें।
 
चैती छठ समापन 19 अप्रैल को- महिलाएं पहले ही इस दिन नदी या तालाबों में खड़ी हो जाती है और सूर्य भगवान की पूजा करती है। सूर्य उगते ही अर्घ्य देकर व्रत को संपन्न किया जाता है।

ये भी पढ़ें : - 

अप्रैल माह में जन्में लोगों के लिए बहुत ख़ास है ये रत्न

चैत्र नवरात्रि 2021, चौथे दिन माँ कूष्मांडा की पूजा करने से सूर्य ग्रह होगा मज़बूत और मिलेगी आर्थिक तरक्की

पौराणिक कथाओं के अनुसार जानें आखिर क्यों छिड़ा था भगवान शिव और कृष्ण में युद्ध


 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X