myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   At what age and time are the planets active? Know the ways to avoid their effects

Lal Kitab Astrology: ग्रह कौन सी उम्र और समय में होते हैं सक्रिय? जानें प्रभाव से बचने के उपाय

Shaily Prakashशैली प्रकाश Updated 10 Jul 2024 12:06 PM IST
ग्रह कब सक्रिय होते हैं
ग्रह कब सक्रिय होते हैं - फोटो : My Jyotish

खास बातें

Lal Kitab Astrology: ग्रह एक निश्चित समय अवधि के दौरान सक्रिय हो जाते हैं और ग्रहों का प्रभाव जातक के जीवन में सकारात्मक और नकारात्मक रूप में पड़ता है। ठीक इसी प्रकार से उम्र के एक पड़ाव पर ग्रह नकारात्मक प्रभाव देते हैं, तो आइए जानते हैं कि वह समय कौन सा होता है और उससे बचने के क्या उपाय हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
Lal Kitab Astrology: लाल किताब के अनुसार प्रत्येक ग्रह दिन या रात में सक्रिय होकर अपना प्रभाव छोड़ता है। इसी के साथ ही वह उम्र के हिसाब से भी जातक को प्रभावित करता है। यदि आप इसका समय जान लेते हैं, तो सावधान रहकर आप कार्य करेंगे। आपको खासकर उन ग्रहों के प्रभाव से बचकर रहना होगा जो आपकी कुंडली में नीच के होकर बैठे हैं या किसी भी प्रकार से बुरा फल दे रहे हैं। यदि आप यह नहीं जानते हैं तो शनि, राहु, केतु और मंगल के प्रभाव से बचकर रहेंगे तो भी आपका काम हो जाएगा। इस लेख मे जानते हैं कि ग्रह कब सक्रिय होते हैं और इनके विपरीत प्रभाव से बचने के क्या उपाय हैं।  
 

ग्रहों के सक्रिय होने का वार और समय


1. सूर्य: सूर्य का प्रभाव रविवार को दिन के दूसरे प्रहर में अधिक रहता है।
2. चंद्र: चंद्र ग्रह का प्रभाव सोमवार को चांदनी रात में अधिक रहता है।
3. मंगल: मंगल ग्रह का प्रभाव मंगलवार के दिन पूर्ण दोपहर में रहता है।
4. बुध: बुध ग्रह का प्रभाव बुधवार के दिन, दिन के तीसरे प्रहर में अधिक रहता है।
5. गुरु: बृहस्पति ग्रह का प्रभाव गुरुवार को दिन के प्रथम प्रहर में अधिक रहता है।
6. शुक्र: शुक्र ग्रह का प्रभाव शुक्रवार के दिन काली रात में अधिक रहता है।
7. शनि: शनि ग्रह का प्रभाव शनिवार को रात्रि एवं घने अंधकारमय समय में ज्यादा रहता है। 
8. राहु: राहु ग्रह का प्रभाव गुरुवार की शाम या पूर्ण शाम को अधिक रहता है।
9. केतु: केतु ग्रह का प्रभाव रविवार को प्रातः सूर्योदय से पूर्व अधिक रहता है।
नोट  उपरोक्त वार के अलावा ये ग्रह प्रत्येक दिन उसी समय पर सक्रिय या प्रभावशाली रहते हैं जो समय ऊपर बताया गया है। 
 

उम्र पर ग्रहों का प्रभाव 


जन्म से लेकर 48 वर्ष की उम्र तक सभी ग्रहों का उम्र के प्रत्येक वर्ष में अलग-अलग प्रभाव होता है।
  • बृहस्पति:- उम्र का 16वां साल बृहस्पति का साल माना गया है। यदि बृहस्पति अशुभ है तो जातक का पढ़ाई में मन नहीं लगेगा।
  • सूर्य:- सूर्य ग्रह का असर आयु के 22वें वर्ष में नजर आता है। यदि सूर्य अशुभ है तो उच्च नौकरी या सरकारी नौकरी मिलने में बाधा आएगी। परीक्षाओं में असफलता मिलेगी। 
  • चंद्रमा:- चंद्र ग्रह का असर आयु के 24वें वर्ष में नजर आता है। यदि चन्द्र अशुभ हो रहा है तो जातक का मन अन्य फालतू के कार्यों में भटकेगा। माता को कष्ट होगा। विवाह करने की इच्छा नहीं रहेगी। मानसिक बेचैनी रहेगी।
  • शुक्र:- शुक्र का असर आयु के 25वें वर्ष में विशेष रूप से दिखाता है। शुक्र के अशुभ होने पर विवाह में विलंब होगा। सुख और सुविधाओं में कमी आ जाएगी। जातक गलत मार्ग पर जा सकता है।
  • मंगल:- मंगल ग्रह का असर आयु के 28वें वर्ष में दिखता है। मंगल के अशुभ प्रभाव के चलते अच्छी नौकरी नहीं मिलेगी। विवाह में भी विलंब होगा। विवाह हो गया है तो कलह होगा। भूमि, वाहन और भवन का मालिक नहीं बन पाएगा। यह उम्र जीवन में सेटल्ड होने की है, लेकिन सेटल्ड नहीं हो पाएगा। 
  • बुध:- बुध ग्रह का असर आयु के 34वें वर्ष में दिखता है। बुध के अशुभ होने से नौकरी और व्यापार में स्थायित्व नहीं मिल पाएगा। व्यापार में हानि होती है। बहन, मौसी और बुआ को परेशानी होती है। 
  • शनि:- शनि ग्रह का असर आयु के 36वें वर्ष में नजर आता है। शनि यदि अशुभ प्रभाव दे रहा है तो इस उम्र में जो भी कमाया है सब बर्बाद कर देता है। मकान बिक जाता है। अस्पताल या जेल का सामना करना पड़ सकता है। अत: इस समय को पहले ही भांप लें और उपाय कर लें।
  • राहु:- राहु ग्रह अपना असर आयु के 42वें वर्ष में प्रदान करता है। यह समय रिटायरमेंट की प्लानिंग करने का होता है लेकिन यदि राहु अशुभ स्थित में हो तो सब किए कराए पर पानी फिर जाता है। संतान के कारण भी कष्ट झेलना पड़ सकता है। नशा करते हैं तो अब तक जो कमाया सब बर्बाद होने वाला है। 
  • केतु:- केतु ग्रह का प्रभाव भी आयु के 42वें वर्ष में दिखता है। यदि अशुभ हो तो संतान एवं मामा की ओर से कष्ट मिलता है। पैरों और घुटनों में दर्द बना रहता है। दिल में अनजान भय बना रहता है। यह आगे का जीवन तय करता है। अच्छे कर्म हैं तो अच्छा होगा और बुरे कर्म हैं तो बुरा ही होगा।
     

ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के उपाय

 
1. सूर्य ग्रह: एक बार बहते पानी में गुड़ प्रवाहित करें। पिता या पिता समान व्यक्ति का सम्मान करें। मुंह में मीठा डालकर ऊपर से पानी पीकर ही घर से निकलें।
2. चंद्र ग्रह: दूध या पानी से भरा बर्तन रात को सिरहाने रखें और सुबह उसे बबुल के पेड़ में डाल दें। ऐसा 43 दिनों तक करें। प्रतिदिन माता के पैर छूकर ही घर से निकलें।
3. मंगल ग्रह: यदि मंगल अशुभ हो रहा है तो बतासे, गुड़ से बनी रेवाड़ियां या तिल बहते पानी में प्रवाहित करें। सफेद रंग का सुरमा आंखों में लगाएं। भाई और मित्रों से संबंध अच्छे रखना चाहिए। हनुमान जी की भक्ति करें।
4. बुध ग्रह: बुध अशुभ हो तो सिक्के बराबर तांबे के पतरे में छेद करके उसे बहते पानी में प्रवाहित करें। नाक छिदवाएं। बेटी, बहन, बुआ और साली का सम्मान करें। उन्हें उपहार देते रहें। अपने वादों को निभाएं। दुर्गा जी की भक्ति करें।
5. बृहस्पति: घर में धूप-दीप देते रहें। केसर को माथे या नाभि पर लगाएं। सत्य बोलें और आचरण को शुद्ध रखें। मंदिर में पीली वस्तुएं दान दें। पिता, दादा और गुरु का आदर करना न भूलें।
6. शुक्र: स्वयं को और घर को साफ-सुथरा रखें और हमेशा साफ कपड़े पहनें। सुगंधित इत्र या सेंट का उपयोग करें। पत्नी का ध्यान रखें उसका कभी भी अपमान न करें। ज्वार या चने का चारा गाय को खिलाएं या किसी को दान करें। दो मोती लेकर एक पानी में बहा दें और एक जिंदगीभर अपने पास रखें।
8. शनि: शनिवार के दिन छाया दान करें। दांत साफ रखें। अंधे-अपंगों, सेवकों और सफाई कर्मियों को दान देते रहें। काका और मामा के सम्मान का ख्याल रखें। भगवान भैरव को कच्चा दूध अर्पित करें।
9. राहु: मूली के पत्ते निकालकर दान करें। मूली को रात को सिरहाने रखकर उसे सुबह मंदिर में दान करें। किचन में बैठकर ही भोजन करें। ससुराल पक्ष से अच्छे संबंध रखें।
10. केतु: संतानों से संबंध अच्छे रखें। दोरंगी कुत्ते को रोटी खिलाएं। कान छिदवाएं। माथे पर केसर का तिलक लगाते रहें।

तो, इस प्रकार से आप पहले ही ग्रहों की सक्रियता के समय का पता लगकार उपाय अपना सकते हैं। यदि आप इससे संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमारे ज्योतिषाचार्यों को संपर्क करें।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X