myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Salt Religious Significance Namak Ke Jyotish Upay Remedies in Hindi

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नमक का इस्तेमाल करते समय रखें इन बातों का ख़ास ख्याल !

ज्योतिषाचार्य पं.सौरभ त्रिपाठी Updated 25 Feb 2021 06:04 PM IST
Namak and jyotish
Namak and jyotish - फोटो : Myjyotish
नमक कई प्रकार के होते हैं जैसे कि सेंधा नमक (पहाड़ी नमक), समुद्री नमक, काला नमक, सामान्य नमक आदि। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नमक को चंद्र और शुक्र का प्रतिनिधि माना जाता है। नमक को कुछ लोग राहु का प्रतीक भी मानते हैं। नमक से कई उपाय किए जाते हैं जो ग्रह दशाओं को सुधारने में काम आते हैंI

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


नमक को यदि किसी स्टील या लोहे के बर्तन में रखा जाता हैं तो यह चंद्र और शनि की युति  कहलाती है जो रोग और शोक का कारण बन जाता है। नमक को किसी प्लास्टिक के पात्र में भी नहीं रखना चाहिए। नमक को सिर्फ कांच के पात्र में रखने से ही यह बुरा असर नहीं देता है।

नमक में चन्द्र की अद्भुत शक्ति होने के कारण घर में सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। 

ज्योतिष एवं वास्तु शास्त्र में नमक का महत्व उतना ही पुराना हैं जितना हमारे शरीर और घर की नेगीविटी का। बहुत से उपाय एवं ग्रहों को शांत करने में नमक का प्रयोग किया जाता रहा हैं।

●     इसके प्रयोग से धन और स्वास्थ्य के साथ साथ राहु - केतु के अशुभ प्रभाव भी नष्ट होते हैं। राहु को नेगेटिव एनर्जी और केतु को कीट / कीटाणुओं का भी सूचक माना जाता है यह दोनों एक दूसरे के समसप्तक होने के कारण एक दुसरे के गुण अवगुण दोनों को अपने आप मे अवशोषित कर लेते हैं।

●      रात को सोने से पहले गुनगुने पानी में एक चुटकी नमक मिलकार हाथ-पैर धोने से न सिर्फ थकान एवं तनाव बल्कि राहु और केतु के अशुभ प्रभाव भी दूर होते हैं।

●     सिर्फ 200gm नमक का 70% पानी शरीर मे से राहु और केतु जनित नेगीविटी मतलब एलर्जी, फंग्स, बोन के लिए, पेट साफ ओर खून को साफ करने के लिए, मन को स्ट्रांग रखने के लिए होता हैं।

●     ज्योतिष के अनुसार समुद्री नमक का प्रयोग करने से मंगल ग्रह की दशा मजबूत होती है।

●    अगर कुंडली में चंद्र - शुक्र कमजोर है तो समुद्री या सामान्य नमक का भोजन में इस्तेमाल न करें बल्कि सेंधा नमक का इस्तेमाल करें। इससे आप रक्तचाप की समस्या से बचे रहेंगे। 

●    शुक्र के कमजोर होने के कारण आपको शुक्रवार को नमक का दान करना चाहिए।

माघ पूर्णिमा पर हरिद्वार में कराएं लक्ष्मी नारायण यज्ञ, होगी सुख-संपत्ति, धन, वैभव और समृद्धि की प्राप्ति -27 फरवरी 2021

●   सेंधा नमक त्रिदोषों से उपजे रोग (राहु - चन्द्र - मंगल) या (सूर्य - केतु - शनि)  को कंट्रोल करता है। यह नमक हृदय और पेट के लिए भी अच्छा माना गया है। जैसे ब्लड प्रेशर, त्वचा रोग, आर्थराइटिस, डिप्रेशन, नेगीविटी,स्ट्रेस बहुत सी बीमारियों से बचाता है। 

● व्रत में भी सेंधा नमक चन्द्र की  तरह शुभ शुद्ध मतलब मन को साफ रखने का महत्व यही है कि एक यह शुद्ध, हल्का और सारा दिन भूखे रहने के बाद खाना आसनी से पच जाए और ब्लडप्रेशर सही रहे। सेंधा नमक अपने शीतल गुणों के लिए जाना जाता है क्योंकि ये आंखों के लिए काफी अच्छा होता है।

●     काला नमक लौह तत्व से भरपूर होता है जिसे कई ज्योतिषी शनि और राहु का कारक मानते है। ठंडी प्रकृति के इस नमक से कब्ज, पाचन समस्या, गैस, सीने की जलन, गोइटर, हिस्टीरिया, मंद दृष्टि, हाई ब्लड प्रेशर, रक्त की कमी और अन्य कई बिमारियों के इलाज में लाभ मिलता है। 

●  नमक चंद्र का कारक होता है इसलिए यदि स्नान करते वक़्त एक चुटकी नमक पानी में डालकर स्नान करे तो मन शांत हो जाएगा और ताज़गी भी आयगीI

●    मन में डर, भय, चिंता होने से दोनों हाथों में साबुत नमक भर कर कुछ देर रखे रहें, फिर वॉशबेसिन में डालकर पानी से बहा दें। इससे मन कारक चन्द्र ठीक हो जाता है।

●   यदि कुंडली में सप्तम भाव में सूर्य है तो ऊपर से नमक डालकर खाना घातक सिद्ध हो सकता है।

●     अगर कुंडली में चंद्र कमजोर है तो समुद्री या सामान्य नमक का भोजन में इस्तेमाल न करें बल्कि सेंधा नमक का इस्तेमाल करें। इससे आप रक्तचाप की समस्या से बचे रहेंगे। लेकिन अगर कुंडली में मंगल कमजोर है तो भोजन में समुद्री नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं

यह भी पढ़े :-         

बीमारियों से बचाव के लिए भवन वास्तु के कुछ खास उपाय ! 

क्यों मनाई जाती हैं कुम्भ संक्रांति ? जानें इससे जुड़ा यह ख़ास तथ्य !

जानिए किस माला के जाप का क्या फल मिलता है

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X