myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Ashadha Amavasya Remedy: right worship time for Ashadha Amavasya

Ashadha Amavasya Upay : आषाढ़ अमावस्या उपाय के लिए जानें सही पूजा समय शांत होंगे पितर नहीं होगा अनिष्ट

Acharya RajRani Updated 05 Jul 2024 09:59 AM IST
आषाढ़ अमावस्या उपाय
आषाढ़ अमावस्या उपाय - फोटो : myjyotish

खास बातें

Ashadha Amavasya 2024: आषाढ़ माह में आने वाली अमावस्या तिथि के समय पर अमावस्या पूजन एवं पितर पूजन विशेष माना गया है।  Ashadha Amavasya Puja के दिन किए जाने वाले उपायों से मिलता है पितृ शांति के साथ साथ सुख समृद्धि का लाभ
विज्ञापन
विज्ञापन
Ashadha Amavasya 2024: आषाढ़ माह में आने वाली अमावस्या तिथि के समय पर अमावस्या पूजन एवं पितर पूजन विशेष माना गया है।  Ashadha Amavasya Puja के दिन किए जाने वाले उपायों से मिलता है पितृ शांति के साथ साथ सुख समृद्धि का लाभ 

दर्श अमावस्या पर गया में कराएं पितृ तर्पण,पाएँ पितृदोष एवं ऋण से मुक्ति -05 जुलाई 2024

Ashadh Amavasya Remedies आषाढ़ अमावस्या उपाय अनुसार  कई तरह के कार्यों को किया जा सकता है। जिसमें से  अमावस्या मंत्र, अमावस्या स्नान, अमावस्या दान, अमावस्या शिव पूजन, अमावस्या पितृ पूजा इत्यादि आइये जान लेते हैं आषाढ़ अमावस्या के दिन कौन से उपाय करके प्राप्त किया जा सकता है पितरों का आशीर्वाद एवं सुख समृद्धि का लाभ। 
 

आषाढ़ अमावस्या पूजा शुभ मुहूर्त Ashadha Amavasya 2024 Puja Shubh Muhurat

इस वर्ष आषाढ़ अमावस्या तिथि 05 जुलाई 2024 के दिन में आ रही है। आषाढ़ अमावस्या के अवसर पर स्नान और दान का विशेष महत्व माना गया है। उचित समय पर किया गया स्नान दान उत्तम फल प्रदान करता है।

इसी के साथ शुभ मुहूर्त में किए जाने वाले पूजन द्वारा भगवान विष्णु, शिव और पितरों की पूजा होने पर अनुकुल फलों की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि शुभ मुहूर्त पर किए जाने वाले कार्यों से साधक को हर प्रकार के कष्ट से मुक्ति मिलती है और साथ ही दोष शांत होते हैं। 

गुप्त नवरात्रि में कराएँ दुर्गा सप्तशती का अमूल्य पाठ, घर बैठे पूजन से मिलेगा सर्वस्व - 06 से 15 जुलाई 2024

आषाढ़ मास की अमावस्या तिथि 05 जुलाई 2024 को सुबह 04:57 बजे से शुरू होगी और इसी के साथ आरंभ होगा इस दिन से संबंधित कार्यों का। आषाढ़ अमावस्या इसका समापन अगले दिन यानी 06 जुलाई को सुबह 04:26 बजे के करीब होगा। आषाढ़ अमावस्या का के दिन यानि 05 जुलाई 2024 को सभी प्रकार के स्नान दान एवं पूजा कार्यों को करना उत्तम होगा। ब्रह्म मुहूर्त में स्नान एवं पूजन शुभ होगा। इसके बाद पितृ पूजा के लिए मध्याह्न समय अनुकूल रहेगा। 
 

आषाढ़ अमावस्या मंत्र  Ashadha Amavasya Mantras  

आषाढ़ माह में आने वाली अमावस्या पर इन मंत्रों का जाप करके पितृ दोष की शांति के साथ ही अमावस्या के फलों का लाभ प्राप्त किया जा सकता है। शास्त्रों के अनुसार बताया गया है कि अमावस्या तिथि पर स्नान और दान करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, आषाढ़ अमावस्या तिथि पर पितरों के लिए तर्पण करने का भी विशेष महत्व बताया गया है,

इन कार्यों को करने से पितरों का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है और कुंडली में चंद्रमा समेत अन्य ग्रह भी शुभ होते हैं।  आषाढ़ माह अमावस्या के समय पर "ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात" गायत्री मंत्र का जाप भी उत्तम होता है। पितरों के लिए निम्न मंत्र का जाप करना उत्तम होता है - " ॐ आद्य-भूताय विद्महे सर्व-सेव्याय धीमहि। शिव-शक्ति-स्वरूपेण पितृ-देवा प्रचोदयात"


यदि आप इससे संबंधित अधिक जानकारी चाहते हैं, तो हमारे ज्योतिषाचार्यों से संपर्क करें।
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X