myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   5 ways to please the angry family deities, troubles will end and you will get peace in life

Kul Devta ko Manane ke Upay: रूठे हुए कुल देवी- देवता को मनाने के 5 उपाय, कटेगा संकट और जीवन में मिलेगा आराम

Shaily Prakashशैली प्रकाश Updated 07 Jul 2024 02:01 PM IST
कुल देवी-देवता को मनाने के उपाय
कुल देवी-देवता को मनाने के उपाय - फोटो : My Jyotish

खास बातें

Kul Devta ko Manane ke Upay: यदि आपसे से आपके कुल देव या देवता रूठ जाते हैं तो जीवन में कठोर संकट आ जाता है। तो आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कि कुल देवी या देवता को मनाने के क्या उपाय हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

Kul Devta ko Manane ke Upay: भारत में कई समाज या जाति के लोग रहते हैं और सभी के कुल देवी और देवता अलग-अलग होते हैं। हिंदू धर्म के लोग हजारों वर्षों से अपने कुलदेवी और देवता की पूजा करते आ रहे हैं। जब कोई अपने कुल देवी और कुल देवताओं को पूजना या उनको याद करना छोड़ देता है, तो जीवन में संतान कष्ट और घोर संकट का दौर प्रारंभ होता है। बहुत से लोगों को तो यह समझ ही नहीं आता है कि कड़ी मेहनत करने के बाद सफलता क्यों नहीं मिल रही, लेकिन यह सब तब होता है जब कुल देव या देवता रूठ जाते हैं। हिन्दू परिवार किसी न किसी देवी, देवता, नाग, यक्ष, किन्नर, राक्षस या ऋषि के वंशज से संबंधित है। उसके गोत्र से यह पता चलता है कि वह किस वंश से संबंधित है। हर वंश के अपने कुल देवी और देवता हैं। बिना कुल देवी कृपा के किसी के कुल का वंश ही क्या कोई नाम, यश आगे बढ़ नहीं सकता। तो आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कि कुल देवता को कैसे प्रसन्न करते हैं।
 

कुल देवी और देवता को पूजना छोड़ने से होता है ये नुकसान


1. घर में पूजा पाठ, शुभ और मांगलिक कार्य बंद हो जाते हैं।
2. विवाह में बाधा उत्पन्न होती है। विवाह हो जाए तो संतान नहीं होती। संतान हो जाए तो संतान को कष्ट होता है।
3. हर कार्य में रोड़े आते हैं और कोई भी कार्य सीधे से नहीं हो पाता है।
4 आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ता है।
5. खुद का मकान नहीं बन पाता है। बन जाए तो जातक कर्ज में डूब जाता है।
6. गृह कलह और लड़ाई झगड़े में परिवार बिखर जाता है।
7. जीवन में घटना और दुर्घटनाओं का सिलसिला चलता ही रहता है।
8. देव दोष से ग्रसित जातक या परिवार मानसिक रूप से परेशान रहता है।
9. बुरी आदतों के कारण व्यक्ति बर्बाद हो जाता है।
10. यहां तक की हत्या या आत्महत्या तक के विचार आते हैं। 
 

कुल देवी और देवता का स्थान कहां रहता है?


कुल अलग है, तो कुल देवी-देवता भी-अलग अलग ही होते हैं। दरअसल, हजारों वर्षों से अपने कुल को संगठित करने और उसके इतिहास को संरक्षित करने के लिए ही कुल देवी और देवताओं को एक निश्चित स्थान पर नियुक्त किया जाता रहा है। वह स्थान उस वंश या कुल के लोगों का मूल स्थान होता है, जो आज भी है। मान लो कोई व्यक्ति मध्य प्रदेश में रहता है लेकिन उसके कुलदेवी और देवता महाराष्ट्र के किसी स्थान पर हैं। यदि उस व्यक्ति को यह मालूम है कि मेरे कुल देवी और देवता उक्त स्थान पर हैं, तो वह वहां जाकर अपने कुल के लोगों से मिल सकता है। वहां हजारों लोग किसी खास दिन एकत्रित होते हैं। इसका मतलब है कि वे हजारों लोग आप ही के कुल के हैं। हालांकि कुछ स्थान इतने प्रसिद्ध हो गए हैं कि वहां दूसरे कुल के लोग भी दर्शन करने आते हैं।
 

रूठ गए कुल देवी या देवता को मनाने के 5 उपाय

 

  • घर में कुल देवी और देवता के लिए प्रतिदिन सुबह और शाम को भोग निकालें और उनके नाम का उच्चारण करें। नाम नहीं याद हो तो स्थान का उच्चारण करें। सभी देवी-देवताओं की पूजा जिस तरह सुबह-शाम की जाती है, उसी तरह कुलदेवी और देवता की पूजा भी दीपक जलाकर करनी चाहिए।
  • कुल देवी या देवता के स्थान पर जाकर कुल देवी या देवता से क्षमा मांग कर वहां अच्छे से विधिवत रूप से पूजा पाठ करें या करवाएं और सभी को दान-दक्षिणा दें। इसके बाद 21 लोगों को भोजन कराएं।
  • कुल देवता की पूजा करते समय शुद्ध देसी घी का दीया, धूप, अगरबत्ती, चंदन और कपूर जलाना चाहिए। कुलदेवता को चंदन और चावल का टीका अर्पण करते समय ध्यान रखें की टूटे हुए या खंडित चावल ना हो। 
  • कुल देवता को हल्दी में लिपटे पीले चावल पानी में भिगोकर अर्पण करना शुभ माना जाता है। पूजा के समय पान के पत्ते का बहुत महत्व है जिसके साथ सुपारी, लौंग, इलायची और गुलकंद भी अर्पण करना चाहिए। कुलदेवी या देवता को पुष्प चढ़ाते हुए आपको इन्हें पानी में अच्छी तरह से धोना चाहिए। 
  • किसी को नाम और स्थान नहीं पता है तो देवी दुर्गा और भैरू महाराज की पूजा करें। भैरू महाराज और दुर्गा माता के मंदिर में जाकर उनके नाम का भोग चढ़ाएं और पूजा करें।
तो इस प्रकार से आप अपने रूठे हुए कुल देवी- देवता को फिर से प्रसन्न कर सकते हैं। यदि आप इससे संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे ज्योतिषाचार्यों से संपर्क करें।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X