myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Astrology Services ›   Puja ›  

Navaraatri Par Vindhyaachal Mein Karaein Durga Sahastranaam Ka Paath Paen Ashvamegh Yagy Ke Samaan Puny

नवरात्रि पर विंध्याचल में कराएं दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ पाएं अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य - Durga Sahasranam Path Online

By: माई ज्योतिष विशेषज्ञ

Rs. 2,500
Buy Now

पूजा के शुभ फल -

  • शत्रुओं का भय दूर होता है।
  • ग्रहों के कारण आ रही बुरी दशाएं समाप्त होती हैं।
  • धन आने के रास्ते खुलते हैं।
  • दीर्घायु, चतुर्रयता प्राप्त होती है।
  • नजर दोष दूर होता है। 
     

विंध्याचल 51 शक्तिपीठों में से एक है। इसकी खासियत है कि यहां पर तीन किलोमीटर के दायरे में तीनों देवियां विराजति हैं। यहां पर केंद्र में कालीखोह पहाड़ी है, जहां मां विंध्यवासिनी विराजमान हैं। तो वहीं मां अष्टभुजा और मां महाकाली दूसरी पहाड़ी पर विराजमान हैं। अन्य शक्तिपीठों पर मां के अलग-अलग अंगो की प्रतीक के रूप में पूजा होती है लेकिन विंध्याचल एकमात्र ऐसा स्थान है जहां मां के संपूर्ण विग्रह के दर्शन होते हैं। यह पूर्ण पीठ कहलाता है। चैत्र और आश्विन मास के नवरात्र में यहां लाखों श्रद्धालु इकट्ठे होते हैं। मां अपने भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करती हैं।

दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ अश्वमेघ यज्ञ के समान माना गया है। दुर्गा सहस्त्रनाम में मां दुर्गा के 1000 नामों का जाप किया जाता है। इसका पाठन और श्रवण करने वाले को समस्त दुखों और नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव से मुक्ति मिलती है। कष्टों से मुक्ति पाने का यह बहुत ही आसान उपाय है। इसका पाठ करनेे से जीवन में आने वाली समस्त बाधाएं दूर होती हैं। जीवन में आनंद और शांति आती है।

विंध्याचल 51 शक्तिपीठों में से एक है। इसकी खासियत है कि यहां पर तीन किलोमीटर के दायरे में तीनों देवियां विराजति हैं। यहां पर केंद्र में कालीखोह पहाड़ी है, जहां मां विंध्यवासिनी विराजमान हैं। तो वहीं मां अष्टभुजा और मां महाकाली दूसरी पहाड़ी पर विराजमान हैं। अन्य शक्तिपीठों पर मां के अलग-अलग अंगो की प्रतीक के रूप में पूजा होती है लेकिन विंध्याचल एकमात्र ऐसा स्थान है जहां मां के संपूर्ण विग्रह के दर्शन होते हैं। यह पूर्ण पीठ कहलाता है। चैत्र और आश्विन मास के नवरात्र में यहां लाखों श्रद्धालु इकट्ठे होते हैं। मां अपने भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करती हैं।

हमारी सेवाएं- हमारे प्रतिष्ठित पंडित जी द्वारा पूरे विधि-विधान से दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ विध्यांचल मंदिर में संपन्न किया जाएगा। साथ ही पूजन से पहले पंडित जी द्वारा फ़ोन पर संकल्प कराया जाएगा। पूजा के बाद प्रसाद भी भिजवाया जाएगा।

प्रसाद-

  • पंचमेवा
  • माता की तस्वीर
  • श्रृंगार

जानिये हमारे पंडित जी के बारे में

पिछली पूजा की तस्वीरें और वीडियो

Benefits of Maa Durga Sahasranam Path Online

One of the most important Hindu festival is Navaratri, a festival for worshipping Goddess Durga (NavaDurga). Among the navaratris, Shardiya Navratri is more important as well as more significant. Navratri as the name suggests is a nine day long festival which initiates from the first day (pratipada) of Ashwin month.

In 2020, Shardiya Navratri will start from 17th of October 2020 that is Saturday and will end on 26th October 2020, Monday which is celebrated as Dussehra. People also regard shardiya navaratri as Maha navratri. And people perform Ramleela in order to show victory of good over evil.

People worship different forms of shakti that is maa durga by making different offerings and by fasting. People worship durga maa by chanting Durga sahasranam path. It contains different names of Durga. Durga is daughter of mountains and is considered auspicious and also removes all the obstacles in the path of her devotees. She is powerful and fearless, and rides on lion.

It is believed that chanting Durga sahasranam path during navratri brings good luck, fearlessness and also brings strength to the chanter. Sahasranam path contains different names of maa Durga. Each name has its meaning and significance. Chanting these names bring positivity and mental peace.

Reciting Maa durga sahasranamka path brings power, peace and prosperity. It also helps in achieving objectives of life. Regular chanting of durga sahasranam path unbound the soul from all sorts of sins and frees the body from all the diseases. This chanting also brings consciousness, peace of mind and helps in cleansing of soul.

Vindhyachal shaktipeeth is a pilgrimage center located in Mirzapur district of Uttar Pradesh. Shakti Peeths were created on the places where different body parts of sati fell but vindhyachal shaktipeeth is a place where durga chose to reside. Vindhyavasini Devi is commonly known as Kajaladevi. And kajali competition is held in the month of jyeshtha. People often visit this place in order to seek blessings of Maadurga during Navratri.

ऑनलाइन माँ दुर्गा सहस्रनाम पाठ के लाभ

सबसे महत्वपूर्ण हिंदू त्योहारों में से एक नवरात्रि है, जो देवी दुर्गा (नवदुर्गा) की पूजा करने का त्योहार है।  शारदीय नवरात्रि अधिक महत्वपूर्ण मानी जाती है। जैसा की नाम से ही पता चलता है कि नवरात्रि नौ दिनों तक चलने वाला त्योहार है जो अश्विन महीने के पहले दिन (प्रतिपदा) से शुरू होता है।

2020 में, शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर 2020 से शुरू होगी जो शनिवार को है और 26 अक्टूबर -2020 को समाप्त होगा, सोमवार का दिन दशहरा के रूप में मनाया जाएगा। शारदीय नवरात्रि को लोग महा नवरात्रि के रूप में भी मानते हैं। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है जिसके लिए इस दौरान रामलीला का आयोजन भी किया जाता है। 

लोग अलग-अलग प्रसाद बनाकर और व्रत रखकर मां दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा करते हैं। दुर्गा सहस्रनाम पाठ का जाप कर दुर्गा माँ की पूजा करते हैं। इसमें माँ दुर्गा के अलग-अलग नाम शामिल हैं। दुर्गा पहाड़ों की बेटी हैं और शुभ मानी जाती हैं और अपने भक्तों के मार्ग में आ रही सभी बाधाओं को भी दूर करती हैं। वह शक्तिशाली और निडर है, और शेर पर सवार है।

ऐसा माना जाता है की नवरात्रि के दौरान दुर्गा सहस्रनाम पाठ का जाप करने से सौभाग्य, निर्भयता आती है और साथ ही यह मंत्र को बल प्रदान करता है। सहस्रनाम मार्ग में माँ दुर्गा के विभिन्न नाम हैं। प्रत्येक नाम का अपना अर्थ और महत्व है। इन नामों को जपने से सकारात्मकता और मानसिक शांति मिलती है।

माँ दुर्गा सहस्रनाम का पाठ करने से शक्ति, शांति और समृद्धि आती है। यह जीवन के उद्देश्यों को प्राप्त करने में भी मदद करता है। दुर्गा सहस्रनाम मार्ग का नियमित जप आत्मा को सभी प्रकार के पापों से रहित करता है और शरीर को सभी रोगों से मुक्त करता है। इस जाप से मन की चेतना को शांति मिलती है और आत्मा की शुद्धि में मदद मिलती है।

विंध्याचल शक्ति पीठ, उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में स्थित एक तीर्थस्थल है। शक्ति पीठ उन स्थानों पर बनाए गए जहाँ सती के विभिन्न शरीर के अंग गिरे थे, लेकिन विंध्याचल शक्ति पीठ एक ऐसी जगह है जहाँ माँ दुर्गा ने निवास करना चुना था। विंध्यवासिनी देवी को आमतौर पर काजला देवी के रूप में जाना जाता है। और कजली प्रतियोगिता ज्येष्ठ के महीने में आयोजित की जाती है। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा का आशीर्वाद लेने के लिए लोग अक्सर इस स्थान पर जाते हैं।


FAQ

 

What are the benefits of durga sahasranam path?

One who chants Durga Sahasranam path on occasion of Nav Durga pooja with faith and sincerity receives blessings of Maa Durga. Regular chanting of this path makes the chanter fearless and enables them desired wishes. It brings good luck, peace, power and prosperity in life. Durga sahasranam path also prevents the chanter from untimely deaths and blesses with disease free life.

 

What are the different names of maa Durga?
Maa Durga is epitome of feminism, powerful and one of the purest forms of energy. Maa Durga is known with different names in different parts of country. Some of the names with their meanings are:
Kushmanda: she is known for the origin of universe. 
Vidya: She is the Goddess of knowledge and wisdom. 
ShailaPutri: she is the daughter of mountain king. 
Annapurni: Goddess who provides food. 
Satya: Goddess of truth. 
Sadhana: She is the Goddess of spirituality and also blesses with contentment and fulfillment. 
Nirbhaya: She is fearless and fights over evil. 
Sarveshwari: She is a Supreme power. 
These are some common names and forms of Maa Durga. There are some names like: Rajeshwari, Kamakshi, Meenakshi, Saumya, Adhya, Kali, Bhudneshwari, Mahagauri, Parmeshwari. 
 

 

When should we do durga sahasranam path?
One of the most important thing to keep in mind while doing durga sahasranam path is the pronunciation of words and mantras. All the words should be pronounced correctly and accurately. One can perform this path at any time of the day with devotion and sincerity. One can do fasts and perform rituals in front of maa Durga idol. One should do this path with complete faith in Goddess. 


What is durga sahasranam stotram?
Shri Maha Durga is a loving mother of all her devotee and  is worshipped everywhere. She is known for peace, compassion, devotion, intellect, she is full of innumerable qualities. Shri Durga Ashtottar Shatnamavali contains 108 different names of Maa Durga. The names represent most important qualities, which are chanted while performing rituals like offering flowers and other samagri. Durga sahasranam Stotra is a type of Siddha Stotra of Durga, which is chanted to end all the sorrows and evil energies.


Is vindhyachal a Shakti Peeth?
Vindhyachal is a Shakti Peeth situated in Mirzapur, a district in Uttar Pradesh. The deity in the temple is known as Vindhyavasini devi, and is considered to be one the holiest Peeth. This is amalgamation of three powers goddess durga, Kali and Saraswati. People visit this place to complete their trikoanparikrama.
 

दुर्गा सहस्रनाम पाठ के क्या लाभ हैं?
जो नव दुर्गा पूजा के अवसर पर दुर्गा सहस्रनाम पाठ का जाप करते हैं, वह माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। इस मार्ग का नियमित रूप से जप करने वाले को निर्भय बनाता है और उन्हें वांछित इच्छाओं को पूरा करने में सक्षम बनाता है। यह जीवन में सौभाग्य, शांति, शक्ति और समृद्धि लाता है। दुर्गा सहस्रनाम पाठ भी जाप करने वाले को असमय मृत्यु से बचाता है और रोग मुक्त जीवन का आशीर्वाद देता है।
 

माँ दुर्गा के अलग-अलग नाम क्या हैं?
कुष्मांडा: वह ब्रह्मांड की उत्पत्ति के लिए जानी जाती है।
विद्या: वह ज्ञान और बुद्धि की देवी हैं।
शैला पुत्री: वह पहाड़ के राजा की बेटी है।
अन्नपूर्णी: भोजन प्रदान करने वाली देवी।
सत्य: सत्य की देवी।
साधना: वह आध्यात्मिकता ,संतोष और तृप्ति की देवी है। 
निर्भया: वह निडर है और बुराई पर लड़ती है।
सर्वेश्वरी: वह एक सर्वोच्च शक्ति हैं।
महागौरी : यह सुहाग का प्रतिक है और दीर्घायु का आशीर्वाद प्रदान करती है। 
 

हमें दुर्गा सहस्रनाम पाठ कब करना चाहिए?
दुर्गा सहस्रनाम पाठ को करते समय ध्यान रखने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात है शब्दों और मंत्रों का सही उच्चारण । शब्दों का सही और सटीक उच्चारण किया जाना चाहिए। व्यक्ति दिन में किसी भी समय भक्ति और ईमानदारी के साथ इस पाठ का जाप कर सकता है। विशेष तौर पर नवरात्रि के समय यह फलदायी होता है। देवी में पूर्ण विश्वास के साथ इस पाठ को करना चाहिए।
 

दुर्गा सहस्रनाम स्त्रोतम क्या है?
महा दुर्गा अपने सभी भक्तों की प्रेममयी माँ हैं और हर जगह उनकी पूजा की जाती है। वह शांति, करुणा, भक्ति, बुद्धि के लिए जानी जाती है, वह असंख्य गुणों से भरी है। दुर्गा नाम सबसे महत्वपूर्ण गुणों का प्रतिनिधित्व करता है। दुर्गा सहस्रनाम स्तोत्र, दुर्गा पूजन का एक सिद्ध स्तोत्र है, जिसका सभी दुखों और बुरी ऊर्जाओं को समाप्त करने के लिए जप किया जाता है।
 

विंध्याचल एक शक्ति पीठ है?
विंध्याचल उत्तर प्रदेश के एक जिले मिर्ज़ापुर में स्थित एक शक्ति पीठ है। मंदिर में देवता को विंध्यवासिनी देवी के रूप में जाना जाता है, और उन्हें सबसे पवित्र पीठ में से एक माना जाता है। यह तीन शक्तियों देवी दुर्गा, काली और सरस्वती का समावेश है। लोग अपनी तिकड़ी परिक्रमा को पूरा करने के लिए इस स्थान पर जाते हैं।र्गा पूजा के अवसर पर दुर्गा सहस्रनाम पाठ का जाप करते हैं, वह माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। इस मार्ग का नियमित रूप से जप करने वाले को निर्भय बनाता है और उन्हें वांछित इच्छाओं को पूरा करने में सक्षम बनाता है। यह जीवन में सौभाग्य, शांति, शक्ति और समृद्धि लाता है। दुर्गा सहस्रनाम पाठ भी जाप करने वाले को असमय मृत्यु से बचाता है और रोग मुक्त जीवन का आशीर्वाद देता है।


Recent Blogs



Ratings and Feedbacks


अस्वीकरण : myjyotish.com न तो मंदिर प्राधिकरण और उससे जुड़े ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करता है और न ही प्रसाद उत्पादों का निर्माता/विक्रेता है। यह केवल एक ऐसा मंच है, जो आपको कुछ ऐसे व्यक्तियों से जोड़ता है, जो आपकी ओर से पूजा और दान जैसी सेवाएं देंगे।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X